बेरोजगारी पर निबंध हिंदी में – पढ़े यहाँ Unemployment Essay In Hindi

प्रस्तावना:

हर व्यक्ति के जीवन में कोई ना कोई समस्या रहती है | संसार में हर एक व्यक्ति को समस्याओं का सामना करना पड़ता है | उसी में से एक समस्या है बेरोजगारी | यह एक बहुत बड़ी समस्या है |

बेरोजगारी किसी भी देश के विकास में मुश्किलों को उत्पन्न करने वाली एक समस्या है | भारत देश में बेरोजगारी का एक बहुत बड़ा विषय बन गया है | देश में युवक युवतियों की संख्या बढाती ही जा रही है |

बेरोजगारी का अर्थ –

जो लोगो को काम करने की इच्छा रहती है और ईमानदारी से नोकरी की तलाश में रहते है लेकिन कुछ कारन की वजह से उनको नोकरी नही मिल पाती है उन्हें बेरोजगार कहा जाता है |

लोकसंख्या

भारत देश की जनसँख्या बहुत ज्यादा है | लोकसंख्या का प्रभाव बेरोजगारी के ऊपर पड़ा है | देश में जन्म दर हा मृत्यु दर से ज्यादा होता है | हर दिन जन्म लेने वाले बच्चों की संख्या बहुत ज्यादा होती है | लोकसंख्या भी एक बेरोजगारी का कारन बन चूका है |

जनसँख्या के वृद्धी के कारण शिक्षा के साधनों में कमी होने लगी है इसके कारण लोग अशिक्षित रह गए है | बढती लोकसंख्या का असर बेरोजगारी पे हो रहा है और बेरोजगारी एक बहुत बड़ा कारण बन चुकी है | बढती लोकसंख्या के कारण देश का संतुलन बिगड़ रहा है |

संबंधित लेख:  विद्यार्थी और अनुशासन पर निबंध - पढ़े यहाँ Student And Discipline Essay In Hindi

शिक्षित / अशिक्षित बेरोजगारी

देश में पहिले ज़माने में बच्चों को शिक्षा प्राप्त करने के लिए पाठशाला, विद्यालय विकसित नही हुई थी | कही लोग शिक्षा प्राप्त करके भी उनको नोकरी नही मिल पाती थी | कई सालों में शिक्षा क्षेत्र में कोई बदलाव नही हुए है | शिक्षा पद्धति अधूरी होने के कारण बेरोजगारी बढ़ रही है |

हर व्यक्ति को जीवन में शिक्षा प्राप्त करनी चाहिए | जिसके पास शिक्षा नही रहती है वो बच्चे बेरोजगार होते है | शिक्षा आज के दुनिया बहुत जरुरी है |

कही लोग शिक्षा प्राप्त करने के बाद भी नोकरी की तलाश में रहते है लेकिन उन लोगो को नोकरी नही मिलती है | ऐसे लोगो को नोकरी न मिलने से वो बेकार हो जाते है |

औद्योगिक क्रांति

हमारा भारत देश ज्यादा लोकसंख्या वाला देश है | देश में औद्योगिक क्रांति की शुरुवात होने लगी वैसे बहुत छोटे छोटे या बड़े बड़े कारखाने बंद पड़ने लगे | बहुत सारे लोग घर पे बैठ के काम करते थे और जरुरत चीजो बना लेते थे |

गांवों में कुटीर उद्योग और लघु उद्योग यह सब नष्ट होने के कारण बेकारी बढ़ गयी है | इस वजह से लोग इधर उधर भटकने लगे है | बहुत सारे लोग को कोई काम नही मिलने कारण वो बेकारी का कारण बन चुके है | बेरोजगारी बहुत सारे देशों में दिखाई देती है |

संबंधित लेख:  अहिंसा पर निबंध - पढ़े यहाँ Essay On Ahimsa In Hindi

निष्कर्ष:

देश में बेरोजगारी की समस्याओं पर नियंत्रण करने के लिए सरकार बहुत सारे उपाय कर रही है | सरकार को बेरोजगारी के मामले में बहुत सारे कदम उठाना चाहिए और इस बेरोजगारी के संवेदनशीलता को समझना चाहिए |

Updated: February 21, 2019 — 12:43 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published.