भारतीय समाज में नारी का स्थान पर निबंध – पढ़े यहाँ Samaj Me Nari Ka Sthan Essay in Hindi

भूमिका :

प्राचीन काल से ही हमारे समाज में नारी का विशेष स्थान रहा है | हमारे पौराणिक ग्रंथों में नारी को पूज्यनीय एवं देवीतुल्य माना गया है | हमारी धारणा रही है की देव शक्ति वही निवास करती है जहाँ नारी जाती को प्रतिष्ठा और सम्मान दृष्टि से देखा जाता है |

नारी का समान करना और उसके हितों की रक्षा करना हमारे देश की सदियों पुराणी संस्कृति है | जहां नारी को सम्मान दिया जाता है वही सुख, समृद्धि एवं शांति रहती है |

नारी आज समाज में प्रतिष्ठित और सम्मानित हो रही हैं | नारी अब घर की लक्ष्मी ही नहीं रह गई हैं बल्कि घर से बाहर समाज का दायित्व निर्वाह करने के लिए आगे बढ़ आई हैं |

वह घर की चार दीवारी से अपने कदम को बढाती हुई समाज की विकलांग दशा को सुधारनें के लिए कार्यरत हो रही हैं |

इसके लिए वह नर के समांतर पद, अधिकार को प्राप्त करती हुई नर को चुनौती दे रही हैं | वह नर को यह अनुभव कराने के साथ उनमें चेतना भर रही हैं |

नारी में किसी प्रकार की शक्ति और क्षमता की कमी नहीं हैं केवल अवसर मिलने की देर होती है | इस प्रकार नारी का स्थान हमारे समाज में आज सायादूत और प्रतिष्ठित है |

संबंधित लेख:  नारी शक्ति पर निबंध कक्षा ४ के लिए - पढ़े यहाँ Women's Power Essay In Hindi For Class 4

नारी समाज के विकास में एक महान भूमिका निभाती हैं और एक उन्नत और आधुनिक समाज बनाती है | नारी हमारे समाज में जन्म से लेकर जीवन के अंत तक विभिन्न प्रकार की महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं | नारी ईश्वर की सर्वश्रेष्ठ रचना है जिसका वर्णन शब्दों में नहीं किया जा सकता है |

संसार में केवल दो शक्तियाँ हैं एक तलवार और दूसरी कलम लेकिन इन दोनों में से सबसे अधिक शक्तिशाली तीसरी शक्ति भी है जिसे नारी कहते हैं |

किसी भी परिवार अथवा राष्ट्र तब तक सच्चे अर्थों में प्रगति की तरफ अग्रसर नहीं हो सकता जब तक वह नारी के प्रति भेदभाव, निरादर अथवा हीनभाव का त्याग नहीं करता |

Updated: January 23, 2020 — 11:12 am

Leave a Reply

Your email address will not be published.