गंगा नदी पर निबंध कक्षा ३ के लिए – पढ़े यहाँ River Ganga Essay In Hindi For Class 3

प्रस्तावना:

सभी नदियों में से गंगा यह हमारे देश की सबसे पवित्र नदी हैं | हमारी भारतीय संस्कृति और सभ्यता में गंगा नदी सबसे महत्वपूण नदी हैं | गंगा नदी को हमारे देश के इतिहास, संस्कृति, धर्म और प्रगति का प्रतीक माना जाता हैं |

हमारे हिन्दू धर्म में गंगा नदी को विशेष स्थान प्राप्त हुआ हैं | यह एक महिमामय नदी हैं | जो आकाश, धरती और पाताल जैसे तीनों लोकों में से प्रवाहित होती हैं |

गंगा नदी के नाम

गंगा नदी के अन्य नाम हैं | जैसे की भागीरथी, हेमवती, जान्हवी, मंदाकिनी, अलकनंदा इत्यादि गंगा नदी के नाम हैं | गंगा नदी को भागीरथी यह राजा भागीरथ के नाम से पड़ा हैं |

गंगा नदी का इतिहास

ऐसा माना जाता हैं की, राजा भागीरथ के साठ हजार पुत्र थे | परंतु शापवश के कारण वो साठ हजार पुत्र भस्म हो गए थे | उसके कारण एक दिन राजा ने कठोर तपस्या की | इसके फल के रूप में गंगा शिवजी के जटा से निर्माण होकर इस भारतभूमि जैसे देवभूमि पर अवतरित हुई |

इसके  कारण भगीरथ के साठ हजार पुत्रों का उद्धार हुआ | तभी से लेकर आज तक गंगा ने जाने कितने पापियों का उद्धार किया होगा |

गंगा नदी का उद्गम

इस गंगा नदी का उद्गम गंगोत्री से होता हैं | गंगा नदी हिमालय के उत्तरी भाग के गंगोत्री से निकलकर बंगाल की कड़ी में विसर्जित हो जाती हैं |

संबंधित लेख:  नारी शिक्षा पर निबंध - पढ़े यहाँ Nari Siksha Essay In Hindi

यह नदी ऋषिकेश, हरिद्वार, कानपुर, वाराणसी, पाटलिपुत्र, भागलपुर, मंदार गिरी और बंगाल इन सभी को सिंचित करती हुई गंगासागर में समाहित हो जाती हैं |

गंगा नदी की लम्बाई

इस गंगा नदी की लगबग २५१० किलोमीटर लम्बी हैं | हमारे देश में गंगा नदी को सन २००८ में भारत की राष्ट्रीय नदी का दर्जा दिया गया हैं | इस नदी को परिपूर्ण करने के लिए भागीरथी और अलकनंदा यह दों नदिया एक – दुसरे से जुड़ते हैं |

गंगा नदी की पवित्रता

हमारे हिन्दू धर्म में गंगा नदी को सबसे पवित्र माना जाता हैं | इस नदी में बहुत सारे लोग मकर संक्रांति के दिन स्नान करते हैं | ऐसा माना जाता हैं की, गंगा नदी में स्नान करने से मन शुद्ध हो जाता हैं और सारे पाप धुल जाते हैं | गंगा नदी के जल के सभी लोग बहुत पवित्र मानते हैं | इस जल का उपयोग शुभ कार्यों में किया जाता हैं |

धार्मिक महत्व

सबसे प्रथम लोग इस गंगा नदी के किनारे बसे और घाटी समृद्ध सभ्यता के कारण परिवर्तित हो गए | गंगा नदी के मैदान पर बहुत सारे युद्ध लडे गए | कई लोगों अपना साम्राज्य स्थापित किया औत कई लोगों उद्वस्त भी किया | गंगा नदी का पानी फसलों के लिए जल का स्त्रोत बना और नौकाओं के लिए एक परिवहन का साधन बन गया |

संबंधित लेख:  पंडित जवाहरलाल पर निबंध - पढ़े यहाँ Essay On Jawaharlal Nehru In Hindi Language

गंगा नदी की मुख्य विशेषता

इस गंगा नदी का जल कभी ख़राब नहीं होता हैं | गंगा जल को बोतल में कई वर्षों तक रखने से इसमें कीटाणु नहीं पनपते हैं | इस जल का उपयोग हिन्दू धर्म में पूजा – पाठ में किया जाता हैं |

निष्कर्ष:

गंगा नदी यह हमारे भारत देश का अत्यंत पवित्र स्थान हैं | हमारे देश में गंगा नदी को गंगा मैया के नाम से जाना जाता हैं | यह नदी पवित्र पावनी नदी हैं | सभी लोगों को इस गंगा नदी को पवित्र और स्वच्छ रखना चाहिए |

Updated: May 13, 2019 — 7:47 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *