मोर पर निबंध कक्षा ५ के लिए – पढ़े यहाँ Peacock Essay In Hindi For Class 5

प्रस्तावना:

मोर यह बहुत सुंदर पक्षी हैं | मोर हमारे देश का राष्ट्रीय पक्षी हैं | यह भारत देश के अन्य जगहों पर दिखाई देता हैं | भारत के अन्य पक्षियों में से यह एक सबसे सुंदर हैं | मोर दिखने में बहुत सुंदर दिखता हैं | मोर बरसात के मौसम में अपने रंग बिरंगे पंख फैला कर नाचता हैं |

मोर की शरीर रचना

मोर दिखने में हरे – नीले रंग के होते हैं | मोर की गर्दन बहुत लम्बी और नीले रंग की होती हैं | इनके पंख बहुत लम्बे होते हैं | उन पंखों पर हरे, नीले और पीले रंग के चाँद जैसे स्पॉट होते हैं |

मोर के पैर बहुत लम्बे होते हैं | मोर के सर पर कलगी होती हैं, वो बहुत सुंदर दिखती हैं | उसके कारण मोर को पक्षियों का राजा कहाँ जाता हैं |

मोर यह दिखने में बहुत सुंदर दिखता हैं | उसके साथ – साथ वो बहुत चतुर, सतर्क और शर्मीले स्वभाव का होता हैं | मोर हमेशा अकेला रहना ही पसंद करता हैं |

अलग – अलग प्रजाति

अन्य देशों में मोर की विभिन्न प्रजाति पायी जाई जाती हैं | लेकिन भारत देश में मोर की सबसे सुंदर प्रजाति पायी जाती हैं | मोर उत्तर प्रदेश, हरियाणा और राजस्थान में भी पाए जाते हैं |

मोर का भोजन

मोर अनाज के दाने, घास के कोमल पत्ते, कीड़े और सांप को खाते हैं | मोर ज्यादा तो खेतो में और बगीचे में पाए जाते हैं | यह ज्यादा तो कीड़ों पर निर्भर होते हैं |

संबंधित लेख:  अबुल कलाम आज़ाद पर निबंध - पढ़े यहाँ Essay on Abul Kalam Azad In Hindi

पक्षियों का राजा

मोर ज्यादा तो जल के स्त्रोत के पास नजर आते हैं और गाँव में यह दृश्य ज्यादा देखा जाता हैं | मोर हरियाली जगह पर ज्यादा दिखाई देते हैं | मोर किसानों का एक अच्छा मित्र भी होता हैं | क्यों की फसलों को लगने वाले कीड़ों को खाता हैं |

मोर का जीवनकाल

मोर का जीवनकाल कम से कम १५ से 25 साल तक होता हैं | मोर के लगबग २०० पंख होते हैं | मोर ज्यादा तो पीपल, बरगद और नीम के पेड़ों पर बैठते हैं |

धार्मिक महत्व 

हिन्दू धर्म में मोर को बहुत महत्व हैं | भगवान श्रीकृष्ण ने अपने सर पर मोर के पंख को धारण किया हैं और मोर भगवान शिव के बेटे कार्तिक का वाहन भी हैं | इसलिए मोर का हिन्दू धर्म में सबसे ज्यादा महत्व हैं |

मोर के पंखों का उपयोग

मोर के पंखो का उपयोग सजावट के लिए किया जाता हैं | और मोर के पंखों की दवाइयां भी बनाई जाती हैं | इसलिए मनुष्य इनका शिकार करने लगा था |

मोर के पंखों से गुलदस्तों और गर्मी में हवा खाने के लिए हाथ पंखे बनाये जाते हैं | भारतीय वन्य जीवन संरक्षण कायदा के अनुसार सन १९७२ में पूर्ण संरक्षण दिया गया हैं |

निष्कर्ष:

प्राचीन काल से मोर ने अपनी सुंदरता के कारण कवियों और सम्राट लोगों को आकर्षित किया हैं | मोर यह इतना सुंदर पक्षी हैं की, उसकी सुंदरता को देखकर हर कोई इंसान मोहित हो जाता हैं |

संबंधित लेख:  किसान की आत्मकथा पर निबंध -पढ़े यहाँ Kisan Ki Atmakatha Essay In Hindi Pdf
Updated: April 6, 2019 — 11:09 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *