मेरा पसंदीदा खेल बैडमिंटन पर निबंध – पढ़े यहाँ My Favorite Game Badminton Essay In Hindi

प्रस्तावना:

बैडमिंटन यह व्यायाम खेल है जिस का आविष्कार पुणे राज्य में हुआ था | यह खेल ब्रिटिश सरकार के आर्मी के अफसरों ने सन 1870 से खेलना प्रारंभ किया  सन 1873 मैं इस खेल का नाम ब्लूफोट रख दिया गया |

बैडमिंटन यह दो लोगों द्वारा खेला जाने वाला खेल हैं | इस खेल में केवल और केवल दो ही लोग रहते हैं, बीच में एक निश्चित रूप से एक पक्ष तथा दूसरे पक्ष के हेतु रेखा होती हैं|

बैडमिंटन खेल को खेलने की विधि

बैडमिंटन यह चारदीवारी के अंदर तथा बाहर खेले जाने वाले खेल हैं इस खेल को चारदीवारी के अंदर इसलिए खेला जाता हैं| क्योंकि इस खेल में केवल दो ही औजारों का इस्तेमाल होता हैं एक शटल कॉक जिसे हम भारत की भाषा में चिड़िया और  टेनिस कहते है |

यह खेल एक छोटे जगह पर भी खेला जा सकता हैं इसी कारण यह बैडमिंटन खेल शहरों तथा गाँव में भी आसानी से खेला जाता हैं, और यही इसकी सबसे अच्छी बात  हैं|

टेनिस जोकि ज्यादा हल्की होती हैं, इसमें पहला ड्राइव और दूसरा फ्लिक होता हैं| इस खेल में कोई भी एक साथी जो रेखा के उस पार होता हैं वह अपने रैकेट से शटल कॉक को हिट(मरता)  करता हैं|

संबंधित लेख:  राष्ट्र निर्माण में विद्यार्थियों का योगदान पर निबंध - पढ़े यहाँ Rashtra Nirman Mein Vidyarthi Ki Bhumika In Hindi Essay

दूसरा पक्ष भी कुशलता से शटल कॉक को हिट करके हवे में उछालता हैं इस खेल में जो भी प्रतिभागी ज्यादा अंक बनाता हैं उसे इस खेल का विजेता माना जाता हैं

खेल को खेलने का महत्व

भारत देश में बैडमिंटन खेल का आरंभ हुआ तब यह खेल मान्य एक मनोरंजन का केंद्र था किंतु, आज के दैनिक जीवन में तथा आधुनिक समय में इस खेल को खेलने का एक मुख्य कारण शारीरिक चुस्ती ,फुर्ती और व्यायाम का केंद्र रहा हैं|

लोग इस खेल को खेलकर अपना शारीरिक व्यायाम करते हैं इससे पूरे शरीर का संपूर्ण रूप से विकाश होता हैं और यह खेल खेलने में सभी को जो औजार चाहिये होते हैं वह भी आसानी से अपने नजदीकी बाजारों में उपलब्ध होता हैं |

बैडमिंटन खेल यह मेरा पसंदीदा खेल हैं, इसका कारण यह हैं, की इस खेल में जल्दी कोई हारता नहीं हैं, और इसी कारण मुझे बैडमिंटन खेल बहुत पसंद हैं, मेरे विद्यालय में भी मैं अपने दोस्तों से जीत ही जाता था |

आज हमारे भारत देश में यह खेल अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर खेले जा रहा हैं, जैसे क्रिकेट हॉकी बॉक्सिंग, जूडो-कराटे इत्यादि जिसमें से उनको भी द्वितीय श्रेणी में नामांकित किया गया  हैं यही कारण हैं, भारत देश अपने विशाल हृदय के रूप में देशों में पहचाना जाता है|

संबंधित लेख:  मेरे विद्यालय पर निबंध हिंदी में - पढ़े यहाँ My School Essay In Hindi

आज हमारे समाज में बैडमिंटन खेल  विद्यालय, जिला, राज्य तथा राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित किया जाता हैं, और 2016 की दशक में गर्मी के समय ओलंपिक सिल्वर मेडल भारत ने पहली बार प्राप्त किया  था|

 निष्कर्ष:

खेल भारतीय हो चाहे विदेशी हमें सभी खेलों का आदर-सम्मान करना चाहिए, निष्ठा पूर्वक उसे खेलना चाहिए कुछ खेल हमारे जीवन के लिए होते हैं|

खेल वह होते हैं जिससे हम जाने जाते हैं| पर कुछ ऐसा खेल होता है जो हमारे जीवन के लिए हानिकारक होते हैं, जैसे सट्टा तथा जुआ आदि|

Updated: March 14, 2019 — 10:22 am

Leave a Reply

Your email address will not be published.