मेरी पाठशाला पर निबंध – पढ़े यहाँ Meri Pathshala Essay In Hindi

प्रस्तावना :

मेरा पाठशाला बहुत ही सुंदर और स्वच्छ पाठशाला है | मेरे स्कूल का नाम सरस्वती विद्या मंदिर है | यह एक आदर्श विद्यालय है जो गाँव में ही स्थित है | मेरे पाठशाला में कक्षा पहली से लेकर कक्षा दसवीं तक पढाई होती है | मेरा पाठशाला चार मंजिला है मेरे कक्षा क्व सभी कमरे में फर्नीचर और पंखे लगे हुए हैं |

मेरे पाठशाला में बच्चों को बहुत ही अच्छा शिक्षा दिया जाता है | मेरी कक्षा अध्यापक सभी बच्चों से प्यार से पेश आते हैं और प्रतिदिन अच्छी चीजों को सिखाते हैं |

मेरा पाठशाला एक ज्ञान का मंदिर है

पाठशाला को विद्यालय और स्कूल भी कहा जाता है | विद्यालय एक ऐसा स्थान है जहां बच्चों को शिक्षा दिया जाता है | विद्यालय से ही शिक्षा प्राप्त करके बच्चे अपने भविष्य को उज्जवल बनाते हैं | मेरे पाठशाला में बहुत ही दूर-दूर से बच्चे शिक्षा लेने के लिए आते हैं | मेरी पाठशाला मुझे बहुत ही पसंद है |

मेरे पाठशाला की विशेषताएँ

Essay On My School in Hindiमेरे विद्यालय में कुल ५० कक्षाएँ हैं | मेरे विद्यालय में ७० काबिल शिक्षक हैं | ३२ सहायक शिक्षक, एक प्रधानाचार्य हैं और १५ गेट कीपर हैं | मेरे पाठशाला में प्रधानाचार्य जी का कमरा विशेष रूप से सजा हुआ है | कमरे में महात्मा गाँधी जैसे अन्य नेताओं का फोटो भी लगा हुआ है | इसके अलावा कर्मचारी वर्ग का रूम, पुस्तकालय, संगणक रूम और प्रयोगशाला आदि हैं |

संबंधित लेख:  ऋतुराज वसंत ऋतु पर निबंध - पढ़े यहाँ Rituraj Spring Essay In Hindi

मेरे पाठशाला का पुस्तकालय

मेरे पाठशाला के पुस्तकालय में नविन और प्राचीन पुस्तकों का अच्छा संग्रह है | जिसमें साहित्य कला से लेकर पाक कला इतिहास विज्ञान भूगोल जैसे सभी विषयों के पुस्तकें उपलब्ध हैं | यह कई प्रकार के साहित्यकारों की पुस्तकें हैं | जैसे मुंशी प्रेमचंद, शेक्सपियर, हरिवंशराय बच्चन आदि | चित्रकला बागवानी के विभिन्न प्रकार की पुस्तकें उपलब्ध हैं |

पाठशाला के खेल का मैदान

मेरे पाठशाला में खेल का मैदान विद्यालय के बिच में है | जिसमें सभी विद्यार्थी फुटबॉल, क्रिकेट आदि खेलते हैं | मेरे पाठशाला में खेल प्रतियोगिता भी राखी जाती है और जितने वाली टीम को पुरस्कृत भी किया जाता है |

मेरे पाठशाला का कार्यप्रणाली और अनुशासन

मेरी पाठशाला सुबह प्रातः काल ७ बजे से लेकर १:३० बजे तक का है | मेरे पाठशाला में दूर से आने वाले विद्यार्थियों के लिए स्कूल बस की व्यवस्था प्रदान की गई है | सुबह प्राथना के साथ पढाई की शुरुआत होती है | मेरी पाठशाला अनुशासनप्रिय है, पालन नहीं करने वाले विद्यार्थियों को कड़ी दंड प्रावधान है |

मेरे पाठशाला के अध्यापक :

किसी भी विद्यार्थी के जीवन में अध्यापक का स्थान पहले से ही महत्वपूर्ण रहा है | मेरे कक्षा अध्यापक धैर्य और प्यार से हमें पढ़ाते हैं | मेरे पाठशाला के अध्यापक बहुत ही काबिल हैं उनके पास सभी सवालों का जवाब होता है | अध्यापक हमें बहुत ही समझदारी और विश्वास के साथ सभी विषयों का ज्ञान देते हैं |

संबंधित लेख:  स्वच्छता का महत्व पर निबंध - पढ़े यहाँ Importance of Cleanliness Essay in Hindi
Updated: January 25, 2020 — 10:06 am

Leave a Reply

Your email address will not be published.