महात्मा बुद्ध पर निबंध – पढ़े यहाँ Mahatma Buddha Essay In Hindi

प्रस्तावना:

दुनिया के सबसे बड़े धार्मिक शिक्षकों में से एक गौतम बुद्ध हैं | हमारे समाज में अत्याचार, अज्ञान, अशांति, अंध विश्वास और अन्य प्रकार की प्रथा रुढ़ थी | इसे दूर करने के लिए कोई ना कोई महापुरुष जन्म लेता हैं |

इस तरह जन गौतम बुद्ध का जन्म हुआ था तब अन्य पराक्र की बुरी प्रथाएं थी | इसे दूर करने के लिए उन्होंने अपने जीवन में हमेशा लोगों को सत्य, शांति, मानवता और समानता का संदेश दिया हैं | गौतम बुद्ध ने बौद्ध धर्म की स्थापना की थी |

गौतम बुद्ध का जन्म

महात्मा गौतम बुद्ध का जन्म ५६९ ई. पूर्व में कपिलवस्तु में हुआ था | उनके पिता का नाम शुदघादेन और माता का नाम महामाया था | गौतम बुद्ध के जन्म के सात दिन बाद उनकी माता का निधन हो गया | महारानी महामाया की बहन गौतमी ने उनका पालन – पोषण किया | गौतम बुद्ध के बचपन का नाम सिद्धार्थ था |

गौतम बुद्ध की जीवन

गौतम बुद्ध की जन्मपत्री देखकर राज ज्योतिष ने कहा की, यह बड़ा होकर चक्रवर्ती राजा बनेगा  या तपस्या के बाद एक संत बनेगा | गौतम बुद्ध बचपन से ही करुणायुक्त और गंभीर स्वाभाव के थे |

वो बड़े होने पर भी उनकी आदते नहीं बदली | उनके पिता ने उनका विवाह यशोधरा नामक कन्या से करके दिया | कुछ समय बाद उन्हें एक पुत्र हुआ | उसका नाम राहुल रखा गया था |

संबंधित लेख:  योग पर निबंध - पढ़े यहाँ Yoga Essay In Hindi

एक दिन वो भ्रमण करने के लिए निकले और रस्ते में उन्हें एक रोगी वृद्ध और मृतक को देखकर उन्हें जीवन की सच्चाई का पाता चला | वो सोचने लगे की क्या यही मनुष्य की गति हैं | इसे देखकर वो बहुत बैचेन हो गए |

कठोर तपस्या

उन्होंने वन में कठोर तपस्या करने की शुरुवात की | तपस्या करने के बाद भी उनके मन को शांति नहीं मिली | तब उन्होंने ने तपस्या का मार्ग छोड़कर मध्यम मार्ग चुना | अंत में वो बिहार के ‘गया’ नामक स्थान पर पहुंचे और एक पेड़ के नीचे ध्यान लगाकर कर बैठे |

एक दिन गौतम बुद्ध को ज्ञान की प्राप्ति हो गयी और वो सिद्धार्थ से ‘बुद्ध’ बन गए | जिस पेड़ के नीचे बैठे थे उस पेड़ को बोधिवृक्ष के नाम से प्रसिद्ध हुआ |

सारनाथ भ्रमण

गौतम बुद्ध को ज्ञान प्राप्ति होने के बाद वो सारनाथ पहुंचे | सारनाथ में जाकर उन्होंने शिष्यों को पहला उपदेश दिया | उसके बाद का उन्होंने देश का भ्रमण किया |

एक दिन वो कपिलवस्तु में भी गए | गौतम बुद्ध के उपदेशों का लोगों पर बहुत गहरा प्रभाव पड़ा | बहुत सारे राजा और आम लोग गौतम बुद्ध के अनुयायी बन गए | उन्होंने दया, सहानुभूति, मैत्री की भावना प्रचार किया | उनकी शिक्षाओं का लोगों पर बहुत प्रभाव पड़ा |

संबंधित लेख:  मजदूर दिवस पर निबंध - पढ़े यहाँ Essay in Hindi Labour Day

निष्कर्ष:

महात्मा गौतम बुद्ध ने अपने जीवन में धर्म का प्रचार किया | अंत में धर्म का प्रचार करते – करते ८० वर्ष की उम्र में कुशीनगर में उनका देहांत हो गया | आज भी सभी लोग उन्हें भगवान की तरह पूजते हैं |

Updated: May 21, 2019 — 8:12 am

Leave a Reply

Your email address will not be published.