महाशिवरात्रि पर निबंध – पढ़े यहाँ Mahashivaratri Essay In Hindi

प्रस्तावना:

हमारा भारत देश यह त्योहारों का देश हैं | इस देश में अन्य प्रकार के त्यौहार मनाये जाते हैं | उन सभी त्योहारों में से महाशिवरात्रि यह हिन्दू धर्म का प्रमुख धार्मिक त्यौहार हैं |

यह त्यौहार हिन्दू धर्म के प्रमुख देवता महादेव इनके जन्मदिवस के रूप में मनाया जाता हैं | यह त्यौहार पुरे भरता में बहुत ख़ुशी और उत्साह के साथ मनाया जाता हैं | यह त्यौहार सबसे लोकप्रिय हैं |

महाशिवरात्रि का त्यौहार कब मनाया जाता है –

यह त्यौहार हर साल फाल्गुन माह के कृष्ण पक्ष चतुर्दशी को मनाया जाता हैं | महाशिवरात्रि का त्यौहार फरवरी या मार्च में आता हैं |  त्यौहार इस दिन बहुत सारे शिव भक्त व्रत रखते हैं | इस दिन खास करके भगवान शिवजी की पूजा और उपासना करते हैं |

भगवान शिवजी की पूजा

इस दिन शिवजी के मंदिरों में भक्तों की बहुत बड़ी लाइन लगती हैं | इस दिन हर एक शिव भक्त भगवान शिवजी के दर्शन के लिए व्याकुल रहता हैं | हर एक भक्तजन अपने साथ फल, फुल दूध, गंगाजल, धुप इत्यादि शिव जी को अर्पण करते हैं |

भगवान शिवजी को बेल के पत्र सबसे अतिप्रिय थे | इसलिए उन्हें इस दिन बेल पत्र अर्पण किये जाते हैं | महाशिवरात्रि के दिन शिव जी के लिंग को गंगाजल से नहलाया जाता हैं | उसके बाद दूध डालकर अभिषेक किया जाता हैं | उसके बाद आरती ग्रहण करते हैं |

संबंधित लेख:  प्रदुषण पर निबंध हिंदी में - पढ़े यहाँ Pollution Essay In Hindi

महाशिवरात्रि का इतिहास

कुछ विद्वानों का यही मानना हैं की, इस दिन शिवजी और माता पार्वती यह दोनों विवाह के बंधन में बढे गए गए |

कई विद्वानों का मानना है की, महाशिवरात्रि के दिन भगवान शिवजी ने कालकूट नाम का विष ग्रहण किया था | जो सागरमंथन के समय अमृत के सबसे पहले समुद्र से निकला था |

शिव मंदिर की सजावट

हमारे भारत देश महाशिवरात्रि का त्यौहार रात के समय मनाया जाता हैं | इस दिन शिवजी के मंदिरों को बहुत सुंदर तरीके से सजाया जाता हैं |

मंदिरों को लाइट से सजाते हैं उसके कारण रात के समय मंदिर जगमगाते हुए नजर आता हैं | मंदिरों की रोशनाई ओर बढ़ जाती हैं |

महाशिवरात्रि के त्यौहार का महत्व

यह त्यौहार हमारे देश में बड़े श्रद्धा के साथ मनाया जाता हैं | इस त्यौहार का सबसे ज्यादा महत्व हैं | कई लोगों का मानना हैं की, इस दिन भगवान ब्रह्मा ने रूद्र से भगवान शंकर का रूप या अवतार धारण किया था |

इस दिन भगवान शिवजी ने विश्व की रक्षा के लिए कालकूट विष को पिया था | जिसकी वजह से उनका कंठ नीला हुआ था | इसलिए उनको ‘नीलकंठ’ के नाम से भी जाना जाता हैं |

महशिवरात्रि का त्यौहार

महाशिवरात्रि या त्यौहार भारत देश के साथ – साथ वाराणसी, हिमाचल प्रदेश, हरिद्वार और ऋषिकेश में भी बड़े उत्साह से मनाया जाता हैं | यह त्यौहार काफी प्रसिद्ध हैं |

संबंधित लेख:  नशीली दवाओं के सेवन पर निबंध - पढ़े यहाँ Drug Intake Essay In Easy

निष्कर्ष:

धार्मिक ग्रंथों में ऐसा माना गया हैं की, महाशिवरात्रि के दिन भगवान शिवजी की पूजा करने पर सांसारिक मनोकामना या इच्छा पूरी हो जाती हैं | और जीवन में सुख और समृद्धि आती हैं |

Updated: May 13, 2019 — 1:02 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *