लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक पर निबंध – पढ़े यहाँ Lokmanya Bal Gangadhar Tilak Essay In Hindi

प्रस्तावना:

बाल गंगाधर तिलक यह स्वतंत्रता सेनानी थे | उनकी उग्रवादी चेतना धैर्यवादी, बुद्धि और और अटूट देशभक्ति की वजह से जाने जाते हैं |

उन्होंने सभी भारतवासियों को एकता और संघर्ष के बारे में बताया | और उनको स्वराज्य के लिए एकत्रित कर दिया | बाल गंगाधर तिलक यह एक नेता भी थे और एक महान विद्वान् भी थे |

बाल गंगाधर तिलक जी ने ‘स्वराज्य यह मेरा जन्म सिद्ध अधिकार है’ और मै उसे लेकर ही रहूँगा यह नारा लगाया था | वो एक विश्वास और स्वतंत्रता रखने वाले महान पुरुष थे |

बाल गंगाधर का जन्म

उनका जन्म १८ जुलाई, १८५६ को महाराष्ट्र के रत्नागिरी के चिखली नाम के गाँव में हुआ था | बाल गंगाधर तिलक का जन्म ब्राह्मण परिवार में हुआ था |

उनका पूरा नाम केशव गंगाधर तिलक था | उनके पिता का नाम गंगाधर तिलक और माता का नाम पार्वती बाई था |

तिलक की शिक्षा

उनके पिता अध्यापक थे | उन्होंने तिलकजी को संस्कृत, मराठी और गणित का ज्ञान घर पे ही दिया था | उसके बाद उन्होंने सन १८७३ में डेक्कन कॉलेज में प्रवेश लिया था |

लेकिन कुछ कारण की वजह से वो असफल हो गए | तिलक जी ने सन १८७६ में बी. ए के परीक्षा में पहिली श्रेणी प्राप्त की थी | वो दो बार एम.ए की परीक्षा में असफल हो गए | उन्होंने सन १८८० में न्यू इंग्लिश स्कूल और फर्ग्युसन कॉलेज की स्थापना की थी | बाल गंगाधर तिलक यह भारत देश के नेता, समाज सुधारक और स्वतंत्रता सेनानी भी थे |

संबंधित लेख:  स्वच्छता पर निबंध हिंदी में - पढ़े यहाँ Cleanliness Essay In Hindi

उत्सव की शुरुवात

बाल गंगाधर तिलक जी ने देश में जनजागृती निर्माण करने के लिए महाराष्ट्र में गणपति उत्सव और शिवाजी उत्सव शुरू कर दिए थे |

उन्होंने इन दो त्योहारों की शुरुवात इसलिए की सभी लोगो में देशप्रेम और अंग्रेजों के खिलाफ आवाज उठाने के लिए साहस भर दिया था |

समाचार पत्र

तिलकजी ने मराठा और केसरी यह दो समाचार पत्र शुरू की | इन संचार पत्रों के द्वारा लोगो के मन में राष्ट्रीय जागृति निर्माण की | उन्होंने भारतियों को ब्रिटिश सरकार के पास उनको सम्पूर्ण स्वराज्य देने की माँग की थी |

कारावास

बाल गंगाधर तिलक के ऊपर ब्रिटिश सरकार ने राजद्रोह का मुकदमा चलाकर उनको छह साल तक मंडाले कारावास में रखा गया था | उन्होंने उस कारावास में रहकर ‘गीतारहस्य’, ‘ओरायन’ और ‘आर्कटिक होम ऑफ़ वेदाज’ इत्यादि ग्रंथ लिखे |

तिलकजी ने अपना पूरा जीवन देश सेवा के लिए त्याग किया | वो हमेशा देश के लिए लढते रहे | उन्होंने देश को स्वतंत्र करने के लिए बहुत कार्य किये | बाल गंगाधर तिलक इनका निधन 1 अगस्त १९२० को मुंबई में हुआ |

निष्कर्ष:

बाल गंगाधर तिलक यह एक महान देशभक्त और नेता भी थे | वो हमेशा भारत देश के लिए संघर्ष करते रहे | इसलिए उनको महान कार्य करने की वजह उनका नाम भारत के इतिहास में आज भी अजर और अमर है |

संबंधित लेख:  शिक्षक दिवस पर निबंध हिंदी में - यहाँ पढ़े Teachers Day Essay In Hindi
Updated: March 30, 2019 — 5:59 am

Leave a Reply

Your email address will not be published.