लाला लाजपत राय पर निबंध – पढ़े यहाँ Lala Lajpat Rai Essay In Hindi

प्रस्तावना:

लाला लाजपत राय यह पंजाब देश के महान देशप्रेमी थे | यह एक अमर क्रांतिकारी और स्वतंत्रता सेनानी थे | उन्होंने देश के लिए बहुत बड़ा बलिदान दिया हैं | इनका बलिदान आज भी देश में नागरिकों में देशभक्ति के रूप में संचार करता हैं |

लाला लाजपत राय का जन्म

लाला लाजपत राय इनका जन्म २८ जनवरी, १८६५ को भारत देश के पंजाब राज्य में लुधियाना नगर जगराव गाँव में हुआ था | उनके पिता का नाम राधा कृष्ण और माता का नाम गुलाबी देवी था | उनके पिता एक एक उर्दू शिक्षक थे |

शिक्षण

उन्होंने प्राथमिक शिक्षा ‘अम्बाला’ से प्राप्त की थी | उसके बाद उन्होंने आगे की पढाई लाहौर के ‘डी.ए.वी’ कॉलेज से पूरी की | उसके बाद उन्होंने भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में सहभाग लिया | लाला लाजपत राय यह वकालत का कार्य करते थे |

आंदोलन

वो गांधीजी के संपर्क में आने के बाद उनके द्वारा चलाया गया स्वतंत्रता आंदोलन में शामिल हो गए | वो हमेशा अंग्रेजों के खिलाफ रहते थे जिसके कारण उन्हें अंग्रेजों ने सन १९०७ में बर्मा जेल में डाल दिया |

उन्होंने जेल से वापस आने के बाद महात्मा गांधीजी के अध्यक्षता में होने वाले असहयोग आंदोलन में उनके साथ में खड़े हो गए | उन्हें कई बार अंग्रजों ने जेल भेजा लेकिन उन्होंने कभी हार नही मानी | उन्होंने हर मुश्किलों का हिम्मत से सामना किया |

संबंधित लेख:  प्लास्टिक प्रदूषण पर हिंदी निबंध - पढ़े यहाँ Essay On Plastic Pollution in Hindi

साइमन कमीशन

भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान साइमन कमीशन भारत देश में आई थी तब इसको कांग्रेस ने विरोध किया था | इस कमीशन की स्थापना अंग्रेजों के द्वारा सन १९२६ में हुई थी |

लेकिन इस कमीशन का मुख्य आगमन भारत में सन १९२८ में हुआ था | उस समय लाला लाजपत राय कांग्रेस पक्ष के अध्यक्ष थे |

उनके द्वारा लिखी गयी पुस्तके

लाला लाजपत राय यह एक स्वतंत्रता सेनानी होने के साथ साथ एक लेखक भी थे | उन्होंने अपने कार्य और विचारों के साथ लेखन कार्य से भी लोगों को मार्गदर्शन किया |

उनके द्वारा लिखी गयी पुस्तके – हिस्ट्री ऑफ़ आर्य समाज, शिवाजी का चरित्र चित्रण, दयानंद सरस्वती, भगवत गीता का संदेश, युगपुरुष भगवान श्रीकृष्ण इत्यादि. पुस्तके उन्होंने लिखी थी |

लाला लाजपत का निधन

भारत में साइमन कमीशन की स्थापना इसलिए की गयी की भारत में संविधान के लिए चर्चा करने के लिए बनाया गया था | इस कमीशन में भारतीय लोगों को नही शामिल किया गया था | लालाजी इस कमीशन को शांतिपूर्वक लढना चाहते थे |

उन्होंने यह माँग की, इस कमीशन में भारतीय लोगों का सहभाग नही हैं तो कमीशन को अपने देश में वापस लौटा दिया जायेगा | लेकिन ब्रिटिश सरकार ने इस माँग को मानाने के लिए तैयार नही हुआ |

संबंधित लेख:  ग्रीष्म ऋतु पर निबंध - पढ़े यहाँ Summer Season Essay In Hindi

बल्कि ब्रिटिश सरकार ने लाठी मार कर दिया जिसमे लाला लाजपत राय बुरी तरह से घायल हुए और उनका स्वास्थ्य बिगड़ता ही जा रहा था |

निष्कर्ष:

लाला लाजपत राय यह एक सच्चे देशभक्त और समाज सुधारक भी थे | उन्होंने अपने जीवन में हमेशा निचली जाती वाले लोगों के संघर्ष किया |

उन्होंने नारियों को शिक्षा में समान अधिकार मिलने के लिए प्रयास करते रहे | उन्होंने हमारे देश के लिए बहुत बड़ा महान कार्य किया हैं |

Updated: April 3, 2019 — 8:14 am

Leave a Reply

Your email address will not be published.