भारतीय संस्कृति पर निबंध – पढ़े यहाँ Indian Culture Essay In Hindi

प्रस्तावना:

किस भी देश की पहचान यह उस देश की संस्कृति से होती हैं | हमारे देश की संस्कृति यह सबसे प्राचीन और समृद्ध हैं | हमारी भारतीय संस्कृति को पुरे विश्व की सभी संस्कृतियों की जननी कहा जाता हैं |

हमारे भारतीय संस्कृति का विशेष स्थान हैं | अन्य देशों की संस्कृति यह धीरे – धीरे नष्ट होती जा रही हैं लेकिन हमारी भारतीय संस्कृति आज भी अपने स्थान पर बनी हुई हैं |

आज की समय में सभ्यता और संस्कृति को एक – दुसरे का पर्याय समझते हैं | संस्कृति और सभ्यता यह अलग – अलग होती हैं | सभ्यता का संबंध बाहरी जीवन में होता हैं और संस्कृति का संबंध हमारी विचारधारा, सोच से होता हैं |

संस्कृति का अर्थ –

संस्कृति यह शब्द संस्कार इस शब्द से बना हुआ हैं | संस्कृति का अर्थ होता हैं – किसी भी देश के संस्कार, शुद्धि, सजावट, रहन – सहन, परिष्कार इत्यादि होता हैं | भारतीय संस्कृति हमारे देश में विविध जाती और धर्म के लोग रहते हैं | सभी लोगों का राहणीमान अलग – अलग हैं | हमारे भारत में विविधता में एकता दिखाई देती हैं |

प्राचीन संस्कृति

प्राचीन संस्कृति में से भारतीय संस्कृति यह सबसे प्रसिद्द हैं | नर्मदा घटी में की गयी खुदाई और मध्य प्रदेश के भीमबेटका में मिले हुए शैलचित्र इन सभी के कारण हमारी भारतभूमि को सबसे पुराणी कर्मभूमि मानी जाती हैं |

संबंधित लेख:  किसान की आत्मकथा पर निबंध -पढ़े यहाँ Kisan Ki Atmakatha Essay In Hindi Pdf

भारतीय संस्कृति की सातत्यता

हमारी भारतीय संस्कृति की विशेषता हैं की, यह हजारों सालों से भी आज भी अपने मूल स्वरुप में जीवित हैं | जबकि असीरिया, यूनान और रोम इन्होंने अपनी संस्कृति को भुलाया हैं |

हमारे देश में नदियों, वट, पीपल जैसे पेड़ों की और देवी – देवताओं की पूजा की जाती हैं | यह क्रम पुराने सालों से चलता आ रहा हैं | गीता और उपनिषदों के संदेश आज भी सभी लोगों को प्रेरणा का आधार रहे हैं |

भारतीय संस्कृति की विशेषता

संस्कार की भावना

हमारे भारतीय संस्कृति में संस्कार को विशेष महत्त्व दिया जाता हैं | संस्कार यह समाज और धार्मिक कार्यों से संबंधित हैं |

गुरु का सम्मान

हमारी भारतीय संस्कृति में गुरु का सम्मान को संस्कृति का रूप माना जाता हैं | हमारे देश में शुरू से ही गुरु का आदर और सम्मान किया जाता हैं |

हमारी संस्कृति में गुरु का अस्तित्व भगवान से भी बढ़कर माना जाता हैं | बड़े लोगों का आदर करना और श्रद्धा यह भारतीय संस्कृति का सबसे बड़ा सिद्धांत हैं |

अनेकता में एकता

हमारे देश में अनेकता में एकता दिखाई देती हैं | हमारा भारत देश भौगोलिक दृष्टिकोण से विविधाओं का देश हैं | हिमालय पर्वत हमारे देश का गौरव का प्रतीक हैं | गंगा, यमुना और नर्मदा यह पवित्र नदियों की स्तुति सभी लोग करते आ रहे हैं |

संबंधित लेख:  सुभाष चन्द्र बोस पर निबंध - पढ़े यहाँ Essay on Subhash Chandra Bose in Hindi

निष्कर्ष:

आज भी हमारी भारतीय संस्कृति विशाल हैं, उतनी ही वो प्राचीन और बहुत मजबूत हैं | हमारी भारतीय संस्कृति की तुलना ओर किसी संस्कृति से नहीं की जा सकती हैं |

हमारी भारतीय संस्कृति यह एक जीवनधारा हैं मानी जाती हैं, जो निरंतर प्रवाहित होती हैं | आज यह संस्कृति विशालता, सहिष्णुता और सर्वांगिनता के कारण सबसे प्रसिद्ध हैं |

Updated: May 11, 2019 — 10:38 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *