यदि मैं पक्षी होता पर निबंध – पढ़े यहाँ If I Was A Bird Essay In Hindi

प्रस्तावना:

हर एक मनुष्य की अपनी ख्वाहिशे होती हैं | मनुष्य अपने जीवन में ढेर सारी तमन्ना रखकर अपना जीवन जीता हैं | पक्षियों को देखकर ऐसा लगता हैं की, उनकी जिंदगी कितनी अच्छी और स्वच्छंदी होती हैं |

आसमान में उड़ते हुए सभी पक्षी मुझे बहुत अच्छे लगते हैं | उनको देखकर मेरा मन मोहित हो जाता हैं | सभी पक्षियों को देखर ऐसा लगता हैं की, काश मैं भी एक पक्षी होता तो कितना अच्छा होता |

यदि मैं पक्षी होता –

अगर मैं पक्षी होता तो सभी पक्षियों की तरह आसमान में उड़कर ऊँचाइयों को छु सकता था | वहा पहुँचने के लिए बहुत सारे लोग सपना देखते हैं | आसमान में उड़कर पुरे वातावरण का आनंद लेता |

उसके साथ – साथ मैं ठंडी हवा का आनंद लेता | पक्षी हवा में उड़कर एक जगह से दूसरी जगह पर जाने के लिए बहुत तेज गति से उड़ते हैं |

लेकिन मनुष्य को चलकर जाने के लिए काफी समय लगता हैं | अगर मैं पक्षी होता तो अपने रिश्तेदारों से मिलने आसानी से चले जाता | किसी एक स्थान से दुसरे स्थान पर बहुत आसानी से पहुँच सकता था |

पक्षियों का मधुर गाना 

पक्षी ज्यादातर तो पहाड़ की चोटी पर और पेड़ों की डालियों पर बैठते हैं और अपन एमधुर स्वर में धुन गाते हैं | जिसकी वजह से मनुष्य को मन प्रसन्न और आनंद हो जाता हैं |

संबंधित लेख:  इंटरनेट के नुकसान पर निबंध - पढ़े यहाँ Internet Disadvantages Essay in Hindi

उसी तरह से अगर मैं पक्षी होता तो पेड़ों पर बैठकर चिल्लाता और अपने मधुर स्वर से लोगों को मन मोहित कर देता |

एक मनुष्य सिर्फ चल सकता हैं, दौड़ सकता हैं लेकिन उड़ नहीं सकता हैं | भगवान ने मनुष्य को उड़ने के लिए पर नहीं दिए हैं |

पक्षी उड़कर कही भी जा सकते हैं | अगर मैं पक्षी होता तो एक जगह से दूसरी जगह पर उड़ सकता था |

पक्षियों की उपमा

जैसे की काव्य और साहित्य में मोर की सुंदरता और मीठी वाणी वाले कोकिला को उपमा दी जाती हैं | जिस तरह से नीलकंठ को शिव और कबूतर को शांति का, बज को वीरता का प्रतीक माना जाता हैं |

उसी प्रकार से अगर मैं पक्षी होता तो मुझे किसी न किसी उपमा का प्रयोग किया जाता था और यह बात मेरे लिए गर्व की बात होती |

देवताओं का वाहन

यदि मैं पक्षी होता तो मैं मानव से दोस्ती स्थापित कर उसका हित कर देता | मैं छोटे – मोठे कीड़े – मकोड़ों को खाकर फसलों की सुरक्षा करता | मुझे पिंजड़े में कैद रहना पसंद नहीं हैं | इसलिए मैं कभी भी कैद में नहीं आता | मुझे आज़ादी बहुत अच्छी लगती हैं |

कुछ पक्षी देवताओं का वाहन होते हैं | अगर मैं गरुड़ बनकर भगवान विष्णु, उल्लू बनकर देवी लक्ष्मी, मोर बनकर कार्तिकेय और हंस बनकर शारदा देवी का वाहन होता तो मुझे बहुत ख़ुशी होती |

संबंधित लेख:  हिंदी भाषा का महत्व पर निबंध - पढ़े यहाँ Hindi Bhasha Ka Mahatva Essay In Hindi

निष्कर्ष:

हर किसी को पक्षियों के चिल्लाने की आवाज, हवा में उड़ना, एक – दुसरे के पीछे भागना, पेड़ों पर बैठकर चहचहाना बहुत पसंद होता हैं | यदि मैं पक्षी होता तो मुझे बहुत ख़ुशी मिलती और मैं हमेशा खुश रहता |

Updated: May 22, 2019 — 10:58 am

Leave a Reply

Your email address will not be published.