माँ पर निबंध – पढ़े यहाँ Hindi Essay On Meri Maa

प्रस्तावना:

हर किसी के जीवन में माँ का होना बहुत जरुरी होता हैं | माँ यह एक ऐसा शब्द हैं, जो इस दुनिया में हर एक बच्चा आने से पहले लेता हैं |

हर किसी के जीवन में माँ यह एक महत्वपूर्ण हिस्सा होती हैं | माँ यह भगवान का दूसरा रूप माना जाता हैं | क्यों की ऐसा माना गया हैं की, भगवान हर किसी के साथ नहीं हो सकते हैं |

इसलिए उसने हर किसी के लिए माँ को बनाया हैं | माँ यह हमारे हर एक जरूरतों को पूरा करने वाली और ध्यान रखने वाली महत्वपूर्ण इंसान होती हैं |

माँ और बच्चे का रिश्ता

हमारे जीवन में माँ की भूमिका सबसे निराली होती हैं | हर एक माँ अपने बच्चे का बहुत अच्छे से ख्याल रखती हैं | वो अपने बच्चों के लिए सबकुछ त्याग करती हैं | माँ अपने बच्चे की हर एक जरुरत को पूरा करती हैं |

वो अपने बच्चों को हमेशा खुश देखना चाहती हैं | वो दिनभर बहुत कष्ट करती हैं | माँ अपने बच्चों के सभी दुःख लेती हैं और उन्हें प्यार देती हैं | जब कोई बच्चा बीमार होता हैं तो उसके लिए वो दिन – रात जगती हैं |

माँ अपने बच्चों को अच्छे संस्कार देकर इस देश का एक अच्छा नागरिक बनाने की भूमिका निभाती हैं | वो हमेशा अपने बच्चों को सही राह पर चलने के लिए प्रेरणा देती हैं |

संबंधित लेख:  मोबाइल फ़ोन के फायदे और नुकसान पर निबंध - पढ़े यहाँ Essay On Advantages And Disadvantages Of Mobile Phones In Hindi

ईश्वर का रूप

माँ को ईश्वर का ही रूप समझा जाता हैं | ईश्वर हर किसी स्थान पर नहीं हो सकता हैं इसलिए उसने माँ को बनाया हैं |

हमारे धार्मिक शास्त्रों माँ को देवी का रूप समझा जाता हैं और उसे देवी के समान पूज्यनीय माना जाता हैं | हर एक माँ अपने बच्चों के हर एक मुश्किल में साथ देती हैं और उन्हें हर दुःख से बचाती हैं |

वो हर एक दुःख सहन करती हैं | भगवान ने माँ को इसलिए बनाया हैं की, बच्चों का दुःख दूर कर सके और उन्हें प्यार तथा सुरक्षा प्रदान करने के लिए बनाया गया हैं |

मदर डे

हमारे देश में हर साल सभी माँ का सम्मान करने के लिए मदर डे के रूप में मनाया जाता हैं | भारत देश में मदर डे हर साल मई महीने के दुसरे रविवार को मनाया जाता हैं |

इस दिन सभी को स्कूल या कॉलेज में आमंत्रित किया जाता हैं | यह दिन पुरे देश में मदर टेरेसा जी के याद के रूप में मनाया जाता हैं | वो एक ममता की देवी थी |

निष्कर्ष:

माँ की तरह कोई भी इंसान त्यागी, साहसी, निडर, धैर्यवान और परोपकारी नहीं हो सकता हैं | माँ यह भगवान का दूसरा रूप हैं जो हमें इस धरती पर जीवन दिया हैं |

संबंधित लेख:  प्लास्टिक प्रदुषण पर निबंध - पढ़े यहाँ Essay On Plastic In Hindi Language

इस अमूल्य जीवन का हम कभी कर्ज अदा नहीं कर सकते हैं | इसलिए हर किसी को अपनी माँ की सेवा करनी चाहिए और उन्हें ख़ुशी देनी चाहिए|

Updated: June 19, 2019 — 11:07 am

Leave a Reply

Your email address will not be published.