हिंदी पर निबंध हिंदी में – पढें यहाँ Hindi Essay In Hindi

प्रस्तावना :

हमारे भारत देश में भिन्न-भिन्न प्रकार के भाषाएँ बोली जाती हैं, जिसमे से एक भाषां हिंदी भी है | देखा जाये तो देश में प्रत्येक  राज्य की अपनी एक अलग भाषा तथा पहचान है, जिसे हम छोटे शब्दों में विविधता कहते हैं|

हिंदी हमारे भारत देश की राष्ट्रिय भाषा हैं|  अर्थात यह भाषा भारत के भिन्न-भिन्न राज्यों में निवास करने वाले लोगो को भी पूर्ण रूप से आती हैं, जो की यही जरुरी भी हैं|

जब भारत देश सम्पूर्ण रूप से अंग्रेजो का गुलाम था, तब तक तो अंग्रेजो ने अपनी अंग्रेजी भाषा से अपना काम चला लिए किंतु हमें अपनी राष्ट्र भाषा का चयन तो करना ही था|

हिंदी भाषा की विशेषताएं 

हिंदी भाषा तथा शब्द की बहुत बड़ी विशेषता यह है की, यह भाषा लिखने में, पढने में, बोलने में तथा आदि हिदी भाषा से जुडी कार्यो को करने में बड़ी ही सरलता होती हैं|

शास्त्रों के अनुसार हिंदी भाषा को संस्कृत भाषा की बड़ी बहन भी मानते है, प्रसिद्ध विद्द्द्वान जोर्ज ग्रियसन द्वारा यह बताया गया की, हिंदी भाषा के व्याकरण को मोटे अक्षरों में केवल एक छोटे से पन्ने पर भी लिखा जा सकता हैं|

हिंदी यह एक ऐसी भाषा है, जो भारत देश के किसी भी राज्य के नागरिक को तथा देश-विदेश से आये हुए अतिथि को भी बोलने में  और समझने में सरलता पाई गयी हैं|

संबंधित लेख:  कैशलेस इंडिया पर निबंध - पढ़े यहाँ Essay On Cashless Economy In Hindi

हिंदी भाषा की सबसे बड़ी यह विशेषता है की यह भाष अन्य सभी भाषाओँ से घुलमिल जाती है , और इतना ही नहीं भारत देश को छोड़ इस भाषा को विदेशो के विश्वविद्यालय में भी पढाई जाती है और यह हमारे लिए किसी गर्व से कम नहीं|

हिंदी भाषा के कुछ बाधाएं 

वर्तमान समय में विदेश से आई हुइ अंग्रेजी सभ्यता के साथ-साथ अंग्रेजी भाषा की मान्यता को बढ़ावा देने में लगे है, अतः इन्ही कारणों से हम हिदी वासी आज भी इनसे पीछे है| इसका सबसे बड़ा कारण यह है, की हमारे देश से युवा पीढ़ी पढ़ लिख कर रोजगार हेतु विदेश में जाते हैं और वहाँ की सभ्यता और संस्कृति सिख कर आते हैं| और हिंदी अपनी मात्र भाषा को भी भूल जाते है जिसमे उन्होंने चलना, खेलना, पड़ना, तथा रहना सिखा|

भारत देश के भिन्न-भिन्न भाषाए 

भरात देश में कुल भिन्न-भिन्न राज्यों के कारण यहाँ की भाषाएँ भी भिन्न है| देश में कुल २२ बषाएं बोली जाती है| जिसमे से हिंदी, मराठी, गुजरती, बंगाली, तमिल, तेलगु, मलयालम, तुलु, उडी ,संस्कृति ,कन्नड़ ,बिहारी ,भोजपुर, उर्दू ,अंग्रेजी इत्यादि|

निष्कर्ष :

हमें भारत देश में हिंदी भाषा को सर्वश्रेष्ठ रखकर हिंदी भाषा को सम्मान देना चाहिये क्योंकि हिंदी भाष हमें एसे ही हनी मिला है हमें इसे कमाना पड़ा था जब देश गुलाम था |

संबंधित लेख:  सुभाष चंद्रा बोस पर निबंध हिंदी में - पढे यहाँ Subhash Chandra Bose Essay In hindi

हमें विदेशी परम्पराओं को उनकी संस्कृति को न अपना कर अपने देश की परम्परा तथा संस्कृति के प्रति समर्पित होना चाहिए हाँ आज मुझे गर्व हैं, की मै जिस देश में रहता हूँ उस देश का नाम भारत है|

और भारत देश में हिंदी भाषा को खोज कर इसे लोगो ने अपने दिल में स्थान दिया यही कारण है, की आज सम्पूर्ण विश्व में भारत की हिंदी भाषा प्रचलित हैं|

Updated: February 23, 2019 — 8:31 am

Leave a Reply

Your email address will not be published.