गंगा सफाई अभियान पर निबंध – पढ़े यहाँ Ganga Safai Abhiyan Essay In Hindi

प्रस्तावना:

हमारा भारत देश यह विविधता और संस्कृति वाला देश हैं | इस देश की संस्कृति और विविधता अन्य देशों से सबसे अलग हैं | जिस तरह से हमारे देश अन्य त्योहारों का विशेष महत्व हैं | उसी तरह विभिन्न नदियों का प्रमुख स्थान और महत्व हैं |

उन सभी नदियों में से गंगा नदी यह भारत देश सबसे पवित्र और प्रमुख नदी हैं | गंगा नदी यह भारत देश की सबसे लम्बी नदी हैं | हिन्दू धर्म के सभी लोग इस नदी को पूज्यनीय मानते हैं |

उसे माँ का दर्जा देते हैं | जिस तरह से एक माँ अपने बच्चों का लालन – पोषण करती हैं | उसी तरह से निस्वार्थ भाव से प्राचीन समय से गंगा मैया हम सब का पालन – पोषण करती हैं |

गंगा नदी का उद्यम

गंगा नदी यह दक्षिण एशिया भारत और बांग्लादेश इन दो देशों में से बहने वाली एक महत्वपूर्ण नदी हैं | यह भारत देश की सबसे बड़ी नदी हैं | गंगा नदी का उद्यम हिमालय पर्वत यानि गंगोत्री से होता हैं |

इस गंगा नदी को हमारे भारत वर्ष की जीवनधारा कहा जाता हैं | यह नदी गोमुख से निकलकर हिमालय पर्वत से उतरकर २५२५ किमी की यात्रा पूरी करके गंगासागर को जेक मिलती हैं |

हिन्दू धर्म में महत्व

गंगा नदी को हिन्धू धर्म में सबसे पवित्र माना गया हैं | उसे माँ की तरह पूज्यनीय माना गया हैं | यह भारतीय लोगों की जीवनदायिनी हैं | गंगा नदी निरंतर प्रवाहमयी नदी हैं |

संबंधित लेख:  पक्षी पर निबंध - पढ़े यहाँ Essay On Birds For Kids In Hindi

गंगा नदी पापियों की उदधार करने वाली नदी हैं | यह एक केवल नदी हैं बल्कि हमारे देश की संस्कृति हैं | इस गंगा नदी के तट पर अन्य पवित्र तीर्थ स्थान निवास हैं |

गंगा नदी का इतिहास

इस गंगा नदी को भागीरथी कहा जाता हैं | गंगा नदी को यह नाम राजा भागीरथ के नाम से पड़ा हैं | राजा भागीरथ के साठ पुत्र थे | परन्तु शापवश होने के कारण उनके साठ पुत्र भस्म हो गए |

उसकी वजह से राजा भागीरथ ने एक दिन कठोर तपस्या की और उसके फलस्वरूप से भगवान शिवजी के जटा से गंगा निकलकर भूमि पर अवतरित हुई | इसके कारण भागीरथ के साठ पुत्रों का उदधार हुआ |

गंगा जल प्रदुषण

गंगा नदी का जल बहुत स्वच्छ होता हैं | इस नदी का जल हरिद्वार्ब तक निर्मल होता हैं | लेकिन इस नदी में शहरों के गंदे नाले का जल और कूड़ा – कचरा घुलमिल जाता हैं |

इस नदी का पवित्र जल दूषित और मलिन होता हैं | कई लोग दूषित जल भी छोड़ देते हैं | इस नदी में सड़ी हुई पूजा की सामग्री डाली जाती हैं | इस नदी में मलमूत्र छोड़ा जाता हैं |

जिसकी वजह से गंगा प्रदूषित होने लगी हैं | गंगा नदी हमरी पहचान और प्राचीन सभ्यता का प्रतीक हैं जो आज अपना अस्तित्व खो रही हैं |

संबंधित लेख:  भ्रष्टाचार पर निबंध - पढ़े यहाँ Brashtachar Essay In Hindi Language

नमामि गंगा योजना

गंगा नदी को निर्मल करने के लिए हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदीजी ने ‘स्वच्छ गंगा परियोजना’ और ‘नमामि गंगा योजना’ की शुरुवात की हैं | इस योजन का मुख्य उद्देश यह हैं की, भारत देश की पवित्र गंगा नदी में होने वाले प्रदुषण को रोका जाए |

इस गंगा नदी को साफ करने के लिए १८ वर्ष का समय निश्चित किया गया हैं | जब यह योजना पूरी तरह से सफल हो जाएगी तो गंगा नदी प्रदुषण मुक्त हो जाएगी |

निष्कर्ष:

गंगा नदी का हमारे भारतीय संस्कृति में महत्वपूर्ण स्थान हैं | इस नदी को स्वच्छ करने के लिए बहुत प्रयास किये जा रहे हैं |

सन २००८ में गंगा नदी को भारत की राष्ट्रीय नदी के रूप में घोषित किया गया | इस नदी को प्रद्दुशन मुक्त करने के लिए प्रयास करने चाहिए |

Updated: May 27, 2019 — 6:07 am

Leave a Reply

Your email address will not be published.