प्रदुषण पर निबंध -पढ़े यहाँ Essay Pollution In Hindi

प्रस्तावना:

मनुष्य और पर्यावरण इन दोनों का बहुत गहरा संबंध हैं | मनुष्य को प्रकृति के द्वारा बहुत सारी चीजे प्राप्त होती हैं | उन सबही चीजों का उपयोग अपने जीवन में करता हैं |

लेकिन मनुष्य अपनी सुख – सुविधाओं और स्वार्थ को पूरा करने के लिए इस प्रकृति के साथ छेड़छाड कर रहा हैं | इसकी वजह से आज प्रदुषण की समस्या निर्माण हो गयी हैं | विज्ञानं के इस युग में मनुष्य को कुछ वरदान भी मिले हैं और अभिशाप भी मिले हैं |

आज के समय में प्रदुषण यह सबसे बड़ी समस्या बन गयी हैं | प्रदुषण यह अन्य समस्याओं में से एक गंभीर बन गयी हैं |

प्रदुषण का अर्थ –

प्रदुषण का अर्थ होता हैं – प्राकृतिक संतुलन में दोष पैदा होना यानि हमारे आसपास के पर्यावरण प्रदूषित होना | वातावरण प्रदूषित होने के कारण ना शुद्ध हवा, ना शुद्ध भोजन, ना शुद्ध खाद्य मिलता हैं |

प्रदुषण के प्रकार

प्रदुषण के अन्य प्रकार हैं | उन सभी प्रकारों में से मुख्य रूप से तीन प्रकार का प्रदुषण बहुत हानिकारक होता हैं | जैसे की जल प्रदुषण, वायु प्रदुषण और ध्वनि प्रदुषण |

जल प्रदुषण

इस धरती पर जल के बिना कोई भी सजीव कल्पना नहीं कर सकता हैं | लेकिन इस जल में बाहरी दूषित जल मिलने के कारण जल प्रदूषित हो जाता हैं और जल प्रदुषण की समस्या निर्माण हो जाती हैं |

संबंधित लेख:  दिल्ली में प्रदुषण पर निबंध - पढ़े यहाँ Pollution In Delhi Essay In Hindi

कई लोग कारखानों में से निकलने वाला दूषित जल नदी – नाले, समुन्दर में छोड़ देते हैं | जिसकी वजह से जल दूषित हो जाता हैं और अन्य प्रकार की बीमारियाँ फ़ैल जाती हैं |

ध्वनि प्रदुषण

मनुष्य को अपना जीवन जीने के लिए शांत वातावरण की जरुरत होती हैं | अन्य प्रदूषणों में स्व ध्वनि प्रदुषण यह एक समस्या हैं |

जब सड़कों पर अन्य प्रकार की वाहने, मोटर साइकल और कार्यक्रमों के लिए लगे हुए लाऊड स्पीकर और कारखानों में चलने वाली मशीनों के शोर की वजह से ‘ध्वनि प्रदुषण’ होता हैं |

ध्वनि प्रदुषण की वजह से मनुष्य के स्वास्थ्य पर परिणाम होता हैं | उसकी सुनने की शक्ति कमजोर हो जाती हैं |

वायु प्रदुषण

हर किसी के जीवन में वायु बहुत महत्वपूर्ण होती हैं | जब यह वायु हानिकारक गैसों की वजह दूषित हो जाती हैं तब वायु प्रदुषण की समस्या निर्माण हो जाती हैं | जैसे की कार्बन डाय ऑक्साइड और कार्बन-मोनो-आक्साइड मिलने से वायु दूषित हो जाती हैं |

पेड़ों को काटने की वजह से और वाहनों और कारखानों में से निकलने वाले धुएं की वजह से हवा प्रदूषित हो जाती हैं | इसकी वजह से मनुष्य को साँस लेना बहुत मुश्किल हो जाता हैं |

निष्कर्ष:

हम सभी लोगों को अन्य प्रकार के प्रदुषण को रोकने के लिए प्रयास करना चाहिए | मनुष्य को पेड़ों की कटाई करने की जगह पर ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाने चाहिए |

संबंधित लेख:  क्रिकेट पर निबंध - पढ़े यहाँ Hindi Essay On Cricket

प्रदूषण को दूर करने के लिए सामाजिक जागरूकता के कार्यक्रमों का आयोजन करना चाहिए | प्रदुषण यह सिर्फ देश की समस्या नहीं हैं बल्कि पुरे विश्व की समस्या हैं |

Updated: June 15, 2019 — 5:48 am

Leave a Reply

Your email address will not be published.