योग पर निबंध – पढ़े यहाँ Essay On Yoga In Hindi Wikipedia

प्रस्तावना:

योग यह हमारे शरीर और मन को स्वस्थ रखता हैं | योग जीवन जीने की एक कला हैं | अपने जीवन में योग करने से अन्य प्रकार की बीमारियाँ दूर हो जाती हैं |

हमारे देश में योग बहुत प्रचलित हो गए हैं | योग यह योग संस्कृति का एक महत्वपूर्ण विषय बन चूका हैं | हम सभी के जीवन में योग बहुत महत्वपूर्ण हैं |

योग हमारे शरीर संबंधों में संतुलन बनाए रखने के लिए हमारी मदद करता हैं | अगर हम इसे नियमित रूप से करेंगे तो हम शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ रह सकते हैं |

योग की उत्पत्ति

ऐसा माना जाता हैं की, योग शब्द की उत्पत्ति उत्तर भारत में हुई थी | प्राचीन समय में हिन्दू धर्म और बौद्ध धर्म से जुड़े लोग योग और ध्यान करते थे |

योग करना यह एक व्यायाम का प्रकार हैं लेकिन यह स्वस्थ, खुशहाल और शांतिपूर्ण जीवन जीने का एक प्राचीन ज्ञान हैं | योग की वजह से आंतरिक शांति आत्मीय ज्ञान प्राप्त करने के लिए सहायता मिलती हैं |

योगासन का अर्थ

योग यह शब्द संस्कृत के ‘यज’ धातु से बना हुआ हैं | जिसका अर्थ होता हैं – जोड़ना और संचलित करना |

जब योगासन करते समय शरीर को किसी से आसन या स्थिति में रखना जिससे स्थिरता और सुख का अनुभव होता हैं उसे ‘योगासन’ कहा जाता हैं |

संबंधित लेख:  साइकिल पर निबंध - पढ़े यहाँ Essay On Bicycle In Hindi

योग के प्रकार

मंत्र योग

मंत्र योग का संबंध मन से होता हैं | मंत्र योग करने से मन पर नियंत्रण किया जा सकता हैं | मन से निर्माण होने वाली स्वस्थ तरंगे हमें बहुत सारा लाभ पहुंचाती हैं |

हठयोग

इस हठयोग में ८ प्रकार होते हैं | यम, नियम, आसन, प्राणायाम, प्रत्याहार, धरना, ध्यान और भ्रम्ध्येहरिम इत्यादि आठ प्रकार होते हैं |

कुंडलिनी योग

जब साधक मन में चलते, बैठते, सोते और भोजन करते हैं तो हर समय वो ब्रह्म का ही ध्यान करते हैं उसे ‘कुंडलिनी योग’ कहा जाता हैं |

राजयोग

इस राजयोग में महर्षि पतंजलि के द्वारा रचित अष्टांग योग का वर्णन इस योग में मिलता हैं | इस योग का मुख्य उद्देश होता हैं, मन की इच्छाओं को नियंत्रित करना |

योग करने का तरीका

मनुष्य को हर दिन योग यह सूर्योदय होने के समय करना चाहिए | योग हमेशा खाली पेट करना चाहिए | मनुष्य को योग सूती कपडा पहनकर करना चाहिए | योग करने के लिए सूती कपडा पहनना अच्छा रहता हैं |

योग करने के ३० मिनट के बाद कुछ खाना चाहिए | योग करने वाले व्यक्ति को हमेशा अपने गुरु से योग सीखना चाहिए | योग करते समय सही तरह से श्वास छोड़ना और लेना चाहिए |

आंतरराष्ट्रीय योग दिवस

पुरे विश्व में हर साल २१ जून को ‘विश्व योग दिवस’ के रूप में मनाया जाता हैं | सन २०१४ में संयुक्त राष्ट्र संघ ने विश्व योग दिवस मनाने की घोषणा की थी | आज योग विश्व के अनेक देशों में प्रचलित हो गया हैं |

संबंधित लेख:  प्रदुषण मुक्त दिवाली पर निबंध - पड़े यहाँ Essay On Pullution Free Diwali In Hindi

निष्कर्ष:

हमारे जीवन में योग का बहुत महत्व हैं | योग करने से हमारे शरीर को कई सारे लाभ होते हैं | योग का अभ्यास करने से मन शीतल हो जाता हैं और मनुष्य के अंदर की नकारात्मक उर्जा ख़त्म हो जाती हैं |

Updated: June 18, 2019 — 1:17 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published.