जल प्रदुषण पर निबंध – पढ़े यहाँ Essay On Jal Pradushan In Hindi

प्रस्तावना:

हम सभी को जीवन जीने के लिए जल की जरुरत होती हैं | इसकी वजह से जल ही जीवन माना जाता हैं | इस धरती पर जल के बिना कोई भी इंसान अपने जीवन की कल्पना नहीं कर सकता हैं |

जल यह मनुष्य की मुलभुत आधार हैं | लेकिन विज्ञान की वजह से मनुष्य का जीवन सुलभ और सरल बन गया हैं | देश में औद्योगिक क्रांति होने से अन्य साधनों का विकास हो गया हैं | आज मनुष्य हर एक कार्य करने के लिए विविध साधनों का उपयोग कर रहा हैं |

जिसकी वजह से उन सभी का परिणाम पर्यावरण पर हो रहा हैं | मनुष्य अपने स्वार्थ को पूरा करने के लिए पर्यावरण को नुकसान पहुंचा रहा हैं | इसका परिणाम प्रदुषण के रूप में देखने के लिए मिल रहा हैं | प्रदुषण यह एक बहुत बड़ी समस्या बन चुकी हैं |

जल प्रदुषण का अर्थ

जल प्रदुषण यह नदी – नालों, समुंद्र और तालाब इन सभी जल के स्त्रोतों में दूषित पदार्थ मिलने के कारण जल दूषित हो जाता हैं, उसे ‘जल प्रदुषण’ कहा जाता हैं |

प्रदुषण के प्रकार

प्रदुषण के कई प्रकार होते हैं | प्रदुषण के सभी प्रकारों में से एक हैं जल प्रदुषण | हर एक प्रकार सबसे ज्यादा प्रभावित किया गया हैं |

जल प्रदुषण की वजह से वो पानी उपयोग करने के लिए योग्य नहीं रहता हैं | हर एक मनुष्य का जीवन इस पानी पर आधारित होता हैं |

संबंधित लेख:  सर्व शिक्षा अभियान पर निबंध - पढ़े यहाँ Essay on Hindi Sarva Shiksha Abhiyan

जल प्रदुषण का मुख्य कारण

जल प्रदुषण का मुख्य कारण होता हैं – उद्योग धंदे | क्यों की उद्योग धंधों और कारखानों में से निकलने वाला दूषित जल और रासायनिक कचरा सीधे नदी – नालियों में छोड़ दिया जाता हैं |

यह छोड़ा गया कचरा बहुत जहरीला होता हैं और नदी – नालों के पानी को दूषित कर देता हैं | नदी – नालो और समुन्दर का पानी दूषित होने के कारण उसमे रहने वाले सभी जीव – जंतु मर जाते हैं |

उसके साथ – साथ यह दूषित पानी कोई भी पशु पिता हैं तो उनकी मृत्यु हो जाती हैं | मनुष्य को अन्य बिमारियों का सामना करना पड़ता हैं | कई लोग नदी – नालों में कूड़ा – कचरा फेकते हैं |

जब नदियों का पानी दूषित होकर समुन्दर में चला जाता हैं तब समुन्दर का पानी भी दूषित हो जाता हैं | प्लास्टिक का प्रमाण बढ़ने के कारण लोग प्लास्टिक वस्तु या कचरा समुंद्र में फेका जाता हैं |

जल प्रदुषण को रोकने के उपाय

जल प्रदूषण की समस्या को रोकने के लिए सरकार को कारखानों और अन्य प्रकार के उद्योगों से निकलने वाला कचरा नदियों में डालने के लिए प्रतिबंध लगाना चाहिए |

कृषि में रासायनिक दवाइयों का प्रयोग कम करना चाहिए | लोगों को नदी में कपडा और बर्तन धोने के लिए प्रतिबंध लगाना चाहिए | जानवरों को नदियों में नहलाने से रोकना चाहिए |

संबंधित लेख:  टेलीफोन पर हिंदी निबंध - पढ़े यहाँ Telephone Essay in hindi

निष्कर्ष:

जल प्रदूषण की वजह से स्वास्थ्य पर बहुत बुरा प्रभाव होता हैं | इसे रोकने के लिए सभी लोगों को प्रयास करना जरुरी हैं | हम सभी को जल के स्त्रोतों को दूषित नहीं करना चाहिए बल्कि उन्हें सुरक्षित रखना चाहिए |

Updated: June 18, 2019 — 9:04 am

Leave a Reply

Your email address will not be published.