कौआ पर निबंध – पढ़े यहाँ Essay On Crow In Hindi

प्रस्तावना:

हमारे भारत देश में विभिन्न प्रकार के पक्षी पाए जाते हैं | हमारी भारतीय संस्कृति में पशु – पक्षियों का विशेष महत्व हैं |

कुछ पक्षियों का संबंध भगवान के विभिन्न अवतारों से जुडा हुआ हैं | जैसे की श्रीकृष्ण – मोर का पंख अपने सिर पर धारण किया हैं | उन सभी पक्षियों में से कौआ यह एक हैं |

कौआ यह एक बहुत ही चतुर पक्षी हैं | कौआ पर्यावरण को साफ रखने में हमारी सहायता करता हैं | यह पक्षी हर एक जगह पर पाया जाता हैं |

कौआ की शरीर रचना

कौआ यह पक्षी काले रंग का होता हैं | इसकी गर्दन स्लेटी रंग की होती हैं | कौआ के दो छोटे पैर होते और इसके पंजे नुकीले हते हैं |

उसकी दो चमकीली आँखे होती हैं | कौआ यह पक्षी सभी पक्षियों में से सबसे चतुर होता हैं | इसकी चोंच काले रंग की होती हैं |

कौआ का भोजन

कौआ यह सर्वाहरी होता हैं | कौआ भोजन में मांस, मछली, कीड़े – मकोड़े, रोटी, सब्जियां, बिज, अनाज, फल इन सभी तरह की सारी चीजे खा लेता हैं | इसकी चोंच बहुत कठोर होने के कारण वो किसी भी चीज को बहुत आसानी से तोड़ सकता हैं |

कौआ दूसरी चिड़ियाँ के बच्चों को मारकर भी खाता हैं | कौआ कभी – कभी बच्चों के हाथ में से खाने को भी छीन लेता हैं | उसके साथ – साथ घरों और दुकानों से खाने की चीजे चुरा लेता हैं |

संबंधित लेख:  पृथ्वी\धरती निबंध हिंदी - पढ़े यहाँ Essay on Hindi Earth

कौआ का जीवनकाल

कौआ की जीवनशैली अन्य सभी पक्षियों की तुलना से अलग होती हैं | कौआ आमतौर पर झुण्ड में रहना पसंद करता हैं | इसका जीवन काल ७ से ८ वर्ष तक होता हैं | कौआ ऊँचे – ऊँचे पेड़ों पर और चट्टानों पर अपना घोसला बनाकर रहता हैं |

कौआ की प्रजातियाँ

पुरे विश्व में कौआ की ४० से भी ज्यादा प्रजातियाँ पाई जाती हैं | हमारे भारत देश में कौए की ६ प्रजातियाँ पाई जाती हैं |

यह पक्षी भारत की कई जगहों पर काला कौआ कम दिखाई देता हैं | इसकी मुख्य वजह हैं, बिगड़ रहा पर्यावरण का संतुलन |

कौआ की मुख्य विशेषता

कौआ यह पक्षी बहुत ही बहादुर या चतुर होता हैं |

हमारी भारतीय संस्कृतियों में इसे अच्छे भाग्य के रूप में देखा जाता हैं | तो कुछ संस्कृतियों में बुरी किस्मत का संकेत माना जाता हैं |

कौआ जब एक जगह से दुसरे जगह पर जाता हैं तो समूह में जाते हैं |

यह पक्षी मनुष्य की तरह लोगों के चेहरे याद रखता हैं |

निष्कर्ष:

कौआ यह एक बहुत ही अच्छा पक्षी हैं | यह पक्षी फसलों को कीड़े – मकोड़े से बचाता हैं | कौआ अपनी कर्कश आवाज से सबकी प्रभावित करता  हैं |

आज भारत देश में कई जगहों पर कौआ दिखना बंद हो गया हैं | हिन्दू धर्म में श्राद्ध के महीने में कौआ का विशेष महत्व होता हैं |

संबंधित लेख:  स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध - पढ़े यहाँ Essay On Swachh Bharat Abhiyan in Hindi
Updated: June 17, 2019 — 1:30 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published.