महात्मा गाँधी पर निबंध – पढ़े यहाँ Essay In Hindi On Mahatma Gandhi

प्रस्तावना:

हमारी भारत भूमि यह महान पुरुषों की भूमि हैं | इस भारतभूमि पर बहुत सारे महान नेताओं ने जन्म लिया हैं | उन सभी नेताओं में से एक हैं – महात्मा गाँधी | महात्मा गाँधी यह एक महान स्वतंत्रता सेनानी थे जिन्होंने अपना जीवन इस देश को आजाद करने के लिए समर्पित किया हैं | हमारे भारत देश का हर एक बच्चा उन्हें ‘बापू’ और ‘राष्ट्रपिता’ के नाम से जनता हैं | उनके महान कार्यों और महानता की वजह से उन्हें ‘महात्मा’ कहा जाता हैं |

महात्मा गांधी का जन्म

इनका जन्म २ अक्टूबर, १८६९ को गुजरात के पोरबंदर नामक स्थान पर हुआ | उनका पूरा नाम मोहनदास करमचंद गाँधी था |

उनके पिता का नाम करमचंद गांधी और माता का नाम पुतलीबाई था | उनकी पिता एक राजकोट के दीवान थे और उनकी माता एक धार्मिक विचारों वाली थी |

शिक्षा और जीवन

महात्मा गांधीजी ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा पोरबंदर से पूरी की थी | उसके बाद उन्होंने राजकोट से अपनी मैट्रिक परीक्षा उत्तीर्ण की और वकालत के लिए इंग्लैंड चले गए | वहां से लौटने के बाद उन्होंने वकालत शुरू की |

इसके दौरान उन्हें दक्षिण अफ्रीका जाना पड़ा | वहा पर भारतीय लोगों के साथ बुरा व्यवहार किया जा रहा था | इसलिए उन्होंने भारतीय लगों की सहायता की और असहयोग आंदोलन की शुरुवात की |

संबंधित लेख:  दादी माँ पर निबंध - पढ़े यहाँ Essay on Grandmother in Hindi

महानपुरुष

हमारे भारत के इतिहास में वो एक ऐसे महान पुरुष थे जिन्होंने भारतियों की आज़ादी के सपने को सच्चाई को बदल दिया था | आज भी लोग उनके महान कार्यों को याद करते हैं |

उन्होंने भारत देश को आजाद करने के लिए सत्य और अहिंसा का मार्ग अपनाया था | वो जन्म से हि सत्य और अहिंसावादी नहीं थे बल्कि उन्होंने अपने आप को अहिंसावादी बनवाया था |

आंदोलनों की शुरुवात

Essay On Mahatma Gandhi in Hindi

महात्मा गांधीजी ने देश को आजाद करने के लिए बहुत सारे आंदोलने की | जैसे की उन्होंने सन १९२० में असहयोग आंदोलन, सन १९३० में नगरी अवज्ञा अभियान और अंत में सन १९४२ में भारत छोड़ो आंदोलन इत्यादि |

यह सभी आंदोलन भारत देश को आज़ादी दिलाने के लिए सफल साबित हुए | महात्मा गांधीजी के द्वारा किये गए संघर्षों की वजह से हमारे भारत देश को ब्रिटिश सरकार से आज़ादी मिल गयी |

रंगभेद और जातिभेद

महात्मा गाँधी यह स्वतंत्रता सेनानी के साथ – साथ एक महान समाज सुधारक भी थे | उनका जीवन काफी साधारण था | उन्होंने अपने जिंदगी में कभी रंगभेद और जातिभेद को माना था |

उन्होंने समाज में से छुआछूत और अछूत की परंपरा को नष्ट करने के लिए बहुत सारे प[रयास किये हैं | इसके चलते उन्होंने अछूत लोगों को ‘हरिजन’ का नाम भी दिया |

संबंधित लेख:  गर्मी का मौसम पर निबंध - पढ़े यहाँ Hindi Essay On Summer Season

निष्कर्ष:

हमारे भारत देश के लिए उनके द्वारा किया गया अहिंसात्मक संघर्ष कभी भुला नहीं जा सकता हैं | महात्मा गांधीजी ने भारत देश के आज़ादी के लिए अपना तन – मन अर्पण कर दिया हैं |

उन्हें देश की सेवा करते – करते ३० जनवरी, १९४८ को महात्मा गांधीजी की मृत्यु हो गयी | हमारे भारत देश में ३० जनवरी यह दिवस उनकी याद में शहीद दिवस के रूप में मनाया जाता हैं |

Updated: June 17, 2019 — 10:08 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *