दहेज़ प्रथा पर निबंध हिंदी में – पढ़े यहाँ Dowry Practice Essay In Hindi

प्रस्तावना :

दहेज़ प्रथा हमारे समाज के लिए एक कलंक माना जाता है | दहेज़ प्रथा पुराने ज़माने से अस्तित्वात है | दहेज़ प्रथा उसको कहते है जो जो लड़की की शादी में उसके माँ बाप से धन या संपत्ति के रूप में लिया जाता है | शादी में लड़के को दहेज़ नही देंगे तो लड़की की शादी रोकी जाती है | और उसको तंग किया जाता है |

दहेज़ प्रथा की शुरुवात

पुराने ज़माने में राजा और महाराजा यह लोग अपने बेटी की शादी में हीरे, सोना और चाँदी यह सब दिया करते थे | दहेज़ क प्रथा धीरे धीरे पुरे समाज में फ़ैलने लगी थी | इसके कारण आज भी देश में दहेज़ की प्रथा अस्तित्वात है |

सरकारी कायदा

देश में कन्या भ्रूण हत्या, दहेज़ प्रथा, लडकियों को अकेले छोड़ना और बहुत सारे समस्याओं का सामना करना पड़ता है | यह सब प्रथा प्राचीन समय में रूढ़ थी |

पैसे कमाने के लिए यह सब प्रथा का अवलंब किया जाता था | और लड़कियों का शारीरिक, मानसिक छल किया जाता था | यह सब समस्याओं को रोकने के लिए भारत सरकारने प्रतिबन्ध कायदा किये है |

दहेज़ प्रतिबंध कायदा, १९६१

लडकियों से दहेज़ लेने और देने के लिए सरकारने कानून व्यवस्था की है | इस अधिनियम कायदे के अनुसार जो भी दहेज़ लेगा और देगा उसको जुरमाना भरना पड़ेगा | उसको ५ साल की सजा होगी और १५००० रुपये तक जुरमाना भरना पड़ेगा | दहेज़ की माँग करने पर ६ साल का कारावास और १०००० रुपये का दंड हो सकता है |

संबंधित लेख:  स्वास्थ्य ही धन पर निबंध - पढ़े यहाँ Hindi Essay On Health Is Wealth

महिला संरक्षण कायदा, २००५

बहुत सारी महिलाओं को अपने ससुराल में दहेज़ के माँग को पूरा करने के लिए शारीरिक और मानसिक रूप से तंग किया जाता है | महिलाओं को शसक्त बनाने के लिए महिला संरक्षण कायदा लागु किया है |

दहेज़ प्रथा रोकने के उपाय

दहेज़ प्रथा को रोकने के लिए सरकार और समाज को प्रयास करना होगा | इस दहेज़ प्रथा को रोकने के कायदे करने चाहिए | तभी सभी लोग दहेज़ लेना बंद करेंगे |

दहेज़ प्रथा पर कायदा लगायेंगे तो यह दहेज़ प्रथा रुक सकती है | सभी लोग दहेज़ लेने के लिए किसी भी लड़की को मजबूर नही करेंगे |

निष्कर्ष :

दहेज़ प्रथा समाज में एक बड़ी समस्या बन गयी है | इस प्रथा पर सरकार ने प्रतिबंध कायदा किया है लेकिन ज्यादातर भागों में इस प्रथा का आज भी पालन किया जाता है |

इसके कारण लड़की को और उसके परिवार का जीना मुश्किल हो रहा है | इस प्रथा को बंद करने के लिए सभी लोगो को एकसाथ आवाज उठानी चाहिए |

Updated: March 1, 2019 — 7:48 am

Leave a Reply

Your email address will not be published.