घरेलू हिंसा पर निबंध – पढ़े यहाँ Domestic Violence Essay In Hindi

प्रस्तावना:

हमारा भारत देश पुरुष प्रधान देश होने के कारण नदियों पर बहुत सारे अत्याचार किये जाते हैं | देश को आज़ादी मिलने से पहले भी भारतीय नारी पर बहुत सारे अत्याचार किये जाते थे | उनको हर एक मुसीबत का सामना करना पड़ता था | नारी को विविध प्रथाओं का शिकार भी होना पड़ता था |

इन सभी मुश्किलों को दूर करने के लिए बहुत सारे समाज सुधारकों ने अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया हैं | लेकिन देश को आज़ादी मिलने के बाद भी नारी के ऊपर होने वाले अत्याचार कम नहीं हुए हैं | उनके ऊपर अन्य प्रकार के घरेलु हिंसात्मक अत्याचार किये जा रहे हैं |

घरेलू हिंसा

नारियों को लिंग भेदभाव, दहेज प्रथा, शारीरिक शोषण, छेड़छाड़ इन सभी समस्याओं का शिकार होना पड़ रहा हैं | उनके ऊपर मानसिक, शारीरिक घरेलु और सार्वजानिक हिंसा की जा रही हैं | इसके कारण नारी लगातार हिंसा का शिकार हो रही हैं | इन सभी क्रूरता के कारण नारियों पर बहुर गहरा ससार पड़ रहा हैं |

दहेज़ प्रथा

जब लड़की बड़ी हो जाती हैं, तो उसके शादी में दहेज़ देना पड़ता हैं | कई लोग गरीबी के कारण दहेज़ नहीं दे पाते हैं | इसलिए दहेज़ के लिए उनकी हत्या कर देते हैं |

कई लोग शादी के बाद दहेज़ की माँग करते हैं | और दहेज़ न मिलने पर उसे मारते हैं | उनके साथ बहुत सारे अत्याचार करते हैं |

संबंधित लेख:  रामनवमी पर निबंध - पढ़े यहाँ Ram Navami Essay In Hindi

समाज में महिला को जिंदा जला देना, मारपीट करके उसके घर से बाहर निकाल देना ऐसी बहुत सारी घटनाएँ हिंसा को बढ़ावा दे रही हैं | कई लोग मदिरापान करके महिलाओं पर अत्याचार करते थे |

हिंसा का मुख्य कारण

महिलाओं के साथ होने वाले हिंसा के पीछे मुख्य कारण पुरुष प्रधान सोच होती हैं | ज्यादातर ग्रामीण भागों में महिलाओं को समाज, परिवार और उनके रिश्तेदारों की वजह से पीड़ित होना पड़ता हैं | महिलाओं पर होने वाले हिंसात्मक अत्याचार यह टीवी चैनलों में और अख़बारों में पढने के लिए मिलते हैं |

हिंसा अधिनियम कायदा

बहुत सारी महिलाओं पर घरेलु हिंसा की जाती हैं | इसलिए सरकारने घरेलु हिंसा के लिए २००५ में अधिनियम कायदा किया गया हैं | इस कायदे को २६ अक्टूबर २००६ को लागु किया हैं |

यह कायदा महिला बाल विकास के द्वारा शुरू किया गया हैं | घरेली हिंसा से पीड़ित महिलाओं के लिए उनकी शिकायते सुनकर पूरी जाँच पड़ताल करने बाद यह मुद्दा न्यायालय तक भेजा जाता हैं |

निष्कर्ष:

महिलाओं के साथ होने वाली हिंसा आज बहुत चिंतादायक विषय बन गयी हैं | इस घरेलु हिंसा को दूर करने के लिए सभी लोगों को प्रयास करना चाहिए | महिलाओं को दुसरे के ऊपर निर्भर नहीं रहना चाहिए बल्कि अपनी जिम्मेदारी उसे खुद लेनी चाहिए | उसे अपने अधिकारों और सुविधाओं के लिए जागरूक होना चाहिए और उसके ऊपर होने वाली हिंसा के खिलाफ आवाज उठानी चाहिए |

संबंधित लेख:  हिंदी में वर्षा ऋतु पर लघु निबंध - पढ़े यहाँ Short Essay on Rainy Season in Hindi
Updated: May 11, 2019 — 1:14 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published.