गाय पर निबंध हिंदी में – पढ़े यहाँ Cow Eassy In Hindi

प्रस्तावना :

गाय यह एक पालतू पशु है | जो की कई वर्षो से मानव जाती की मित्र रही है |गाय हमारे लिए अत्यंत उपयोगी प्राणी है, जिसे चिकित्सकों, वैज्ञानिको तथा धार्मिक दृष्टि से प्राचीन काल से ही महत्वा मिल गया |

गाय की उपयोगिता को वैज्ञानिको द्वारा स्वीकृत्ति प्रदान की है| और हमारे हिन्दू पुराणों में गाय को एक पवित्र पशु माना गया है | यहाँ तक की सम्पूर्ण भारत वर्ष में कई हिन्दुओ द्वारा तो गाय को माता का दर्जा देके उसे पूजा भी जाता है |

गाय की संरचना 

 गाय को दो आखे ,दो कान, दो सिंग, एक पूंछ तथा चार पैर होती है और यह एक मादा प्राणी है| और गाय की निचले हिस्सा में दूध से भरा थन होता है | गाय की पूछ में बहुत सारे बाल होते है | अक्सर गाय को सीमित रंगों में ही पाया जाता है |

जैसे की भूरा रंग ,लाल रंग,काली रंग, सफ़ेद रंग तथा कुछ मिश्रीत रंगों की होती हे| गाय के पैरो में जो खुर होते है वो दो अलग होते है |गाय की आखे मनुष्य की आखो के मुकाबले ३गुनी होती है और हमारे देश में २९ राज्य है जहा पर भिन्न भिन्न प्रजातिया की गाये देखने को मिलती हैं|

जंगली गाय जंगले में रहती है और इसी प्रकार गाय की कुछ नस्ल पाई जाती है |जैसे की करण फहरी ,गीर ,सहिवाला इत्यादि …

संबंधित लेख:  जल बचाओ जीवन बचाओ पर निबंध - पढ़े यहाँ Save Water Life Saving Essay In Hindi

गाय का निवास 

गाय यह पशु विश्व की लगभग प्रत्येक क्षेत्रो में पाई जाती है |प्रत्येक क्षेत्र में भीं भीं औशत में दूध देने वाली गाये पाई जाती हियो जैसे की यूरोप और अमेरिका में तथा आस्ट्रेलिया में अत्यधिक दूध देने वाली गाये पाई जाती है जबकि हमारे भारत देश में पंजाब ,हरियाणा तथा गुजरात के क्षेत्रो की गायें अधिक दूध देती है |

गाय का पौराणिक महत्व 

गाये एक शांत स्वभाव का पालतू शाकाहारी पशु है | ये भूसा,खरी ,चोकरा ,घास पेड़ तथा पत्तियों का सेवन करती है | गाय यह ऐसा पशु है जो अपने पुरे चारे को मुह में ले लेती और एक शांत स्थान में धीरे धीरे चबाती है| जिसे हम आप भाषा में चुग्लाना भी कहते है |

जैसे की हम जानते है की हिदू धर्म को मानने वाले लोग गाये के दूध से निर्मित( घी ) के बिना कोई भी पवित्र पूजा नहीं करते गाओ में पुरे आँगन को अथवा पुरे घर को गाय के गोबर से लिपा जाता है | और तब उसपर कोई फाई पवित्र पूजन का आयोजन किया जाता है |

यहाँ तक की भगवन कृष्णा जिसे हम नन्द किशोर भी कहते है उनके जीवन में भी गाय का बहुत बहत्वा रहा है |और गाय से हमें दुग्दजन्य पदार्थ भी मिलता है  |

संबंधित लेख:  झांसी की रानी लक्ष्मीबाई पर निबंध हिंदी में - पढें यहाँ Rani Lakshmibai Of Jhansi Essay In Hindi

निष्कर्ष 

गाय हमारे गाओ की अर्थ व्यवस्था  के लिए सबसे जादा महत्वपूर्ण है क्योकि इसके कारण कई गरीब लोग दूध बेचने का व्यवसाय भी करके अपना जीवन कुसल मंगल से निर्वाह कर रहे है |

गाय यह हमरे जीवन में बहुत ही महत्वा रखता है अर्थात इसका हमें सम्मान करना चाहिये और और गाय तथा प्रत्येक पशुपक्षी की देखभाल करनी चाहिये|

Updated: February 21, 2019 — 2:24 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published.