भारत के संविधान पर निबंध – पढ़े यहाँ Constitution Of India Essay In Hindi

प्रस्तावना:

हमारा देश १५ अगस्त, १९४७ को ब्रिटिश सरकार के गुलामगिरी से मुक्त हुआ था | तब हमारे देश का संविधान नहीं बना हुआ था | जब किसी भी देश की पहचान होने के लिए उस देश की संस्कृति, भाषा और कानून या नियम होना बहुत जरुरी हैं | संविधान का मतलब होता हैं की, किसी भी देश को कानून और नियमों के द्वारा नियंत्रित किया जा सके |

भारतीय संविधान की निर्मिती

हमारा भारत देश यह एक लोकतांत्रिक देश हैं | इस देश का संविधान विश्व का सबसे बड़ा संविधान हैं | हमारे देश का संविधान डॉ, बाबासाहेब आम्बेडकर इन्होंने निर्माण किया हैं | इसलिए उनको भारतीय संविधान के पिता कहा जाता हैं | हमारे देश का संविधान यह अमेरिकी संविधान से प्रेरित हैं |

संविधान की रचना

हमारे भारत देश का संविधान २६ जनवरी, १९४९ को घोषित किया गया हैं | सन १९५० में इस संविधान को पूर्ण रूप से लागु किया गया था | इस संविधान को बनाने के लिए २ साल११ महीने और १८ दिन लगे हुए थे | भारतीय संविधान को २२ भागों में विभाजित किया गया था | इस संविधान के अन्दर ४६५ अनुच्छेद और 12 अनुसूचिया हैं |

लिखित और अलिखित संविधान

संविधान के दो प्रकार होते हैं – लिखित और अलिखित | संविधान यह पूरी तरह से लिखित नहीं हो सकता हैं | क्यों की लिखित संविधान को बदलना बहुत मुश्किल होता हैं |

संबंधित लेख:  मकर संक्रांति पर हिन्दी निबंध - पढ़े यहाँ Makar Sankranti Essay In Hindi

किसी भी विषय में संशोधन करने के लिए सबसे प्रथम केन्द्रीय संसद और राज्य के विधान मंडलों की सहमति लेनी बहुत जरुरी होती हैं |

भारतीय संविधान

हमारे देश का संविधान लिखित स्वरुप का हैं | यह संविधान में आवश्यक लोगों को उनके मौलिक, राजनैतिक और सामाजिक अधिकार देने के लिए बनाया गया हैं |

इस संविधान की सुरक्षा सर्वोच्च न्यायालय करता हैं | हमारे देश के संविधान में कानून और नियम विभिन्न देशों से लिए गए हैं | इस संविधान में मौलिक अधिकार रुसी संविधान से लिए गए हैं |

संविधान की विशेषता

भारतीय संविधान एकता को बढ़ावा देता हैं | संविधान यह भारत के संसद को संविधान में परिवर्तन करने के लिए शक्ति देता हैं |

इस संविधान की निर्मिती इसलिए की गयी हैं की, यह संविधान सामाजिक, धार्मिक, राजनितिक और ऐतिहासिक स्थिति को सामने रखकर की गयी हैं |

हमारे देश का संविधान आर्थिक और व्यक्तिगत शक्ति को मजबूत करता हैं | देश के राष्ट्रीय गान को २४ जनवरी १९५० को अपनाया गया था |

राष्ट्रीय गीत और असोक स्तंभ को राष्ट्रीय चिन्ह के रूप में भारतीय संविधान के दिन ही अपनाया गया था | इस देश के नागरिकों को कर्तव्य हैं की, हमारे संविधान, राष्ट्रीय गान और तिरंगे का सम्मान करना चाहिए |

निष्कर्ष:

हमारे देश का भारतीय संविधान सभी नागरिकों के अधिकार और हक्कों को सुरक्षित रखने का कार्य करता हैं | हम सभी लोगों को कानूनों और नियमों का पालन करना चाहिए | हमारे भारतीय संविधान का सम्मान करना चाहिए |

संबंधित लेख:  माता पिता पर निबंध हिंदी में - पढ़े यहाँ Parents Essay In Hindi
Updated: May 11, 2019 — 11:23 am

Leave a Reply

Your email address will not be published.