चंद्रशेखर आजाद पर निबंध हिंदी में – पढ़े यहाँ Chandrasekhar Azad Essay In Hindi

प्रस्तावना :

चंद्रशेखर आजाद एक भारतीय स्वतंत्रता सेनानी थे | इन्होने अपने देश के बहुत बड़ा महान कार्य किया है | अनेक महान व्यक्तियों ने अपने देश के स्वतंत्रता के अपने प्राण भी गवा दिए है |

चंद्रशेखर आजाद का जन्म

चंद्रशेखर आजाद का जन्म २३ जुलाई, १९०६ को मध्यप्रदेश के झाबुया जिले के भाबरा नमक के स्थान पर हुआ | चंद्रशेखर आजाद के पिता का नाम पंडित सीताराम तिवारी और उनके माता का नाम जगदानी देवी था |

चंद्रशेखर आजाद के पिता एक साहसी, ईमानदारी और स्वाभिमानी व्यक्ति थे | अपने पिता के सारे गुण चंद्रशेखर आजाद ने अपनाये थे | चंद्रशेखर आजाद ने अपना प्राम्भिक जीवन भाबरा गाँव में बिताया था |

आजाद का शिक्षण

उन्हें गिरफ्तार कर लिया और जज के सामने उनको प्रस्तुत किये गए | वहा पर उन्होंने अपना नाम ‘आजाद’ और पिता का नाम ‘स्वतंत्रता’ और ‘जेल’ ही उनका निवास है ऐसे बताया |

चंद्रशेखर आजाद को १५ कोड़े की सजा दी गयी थी | हर कोड़े के वार के साथ साथ उन्होंने ‘वन्दे मातरम’ और ‘महात्मा गाँधी की जय’ के आवाज को याद किया था |

आन्दोलन में सहभाग

जब देश में ‘क्रांतिकारी आन्दोलन’ की शुरुवात हो गयी तब आजाद उसी में सहभाग हो गए और ‘हिन्दुस्थान सोशलिस्ट आर्मी’ के साथ जुड़ गए |

संबंधित लेख:  महिला सशक्तिकरण पर निबंध कक्षा ६ के लिए - पढ़े यहाँ Empowerment Of Women Essay In Hindi For Class महिला सशक्तिकरण

उन्होंने रामप्रसाद बिस्मिल के ‘काकोरी षड़यंत्र’ में सहभाग लिया था और पुलिस के आँख में धुल फेककर वहा से भाग गए |

चंद्रशेखर आजाद और उनके साथी सुखदेव राज यह दोनों ‘एल्फ्रेड पार्क’ में बैठकर विकाहे कर रहे थे तब यह दोनों को पुलिस ने घेर लिया | सुखदेव को उस जगह से भगा दिया और चंद्रशेखर आजाद खुद अकेले पुलिस के सामना कर रहे थे |

चंद्रशेखर आजाद के पास एक आखिरी गोली बची थी | उन्होंने सोचा की में यह गोली उनपर चला दूँगा तो में जीवित गिरफ्तार हो जाऊंगा यह भीती उनके मन में थी | चंद्रशेखर आजाद ने वह आखिरी गोली खुद पर चला दी | उसी समय उस जगह पे उनकी मृत्यु हो गयी |

देश के प्राण का त्याग

चंद्रशेखर आजाद एक स्वतंत्रता संग्राम के एक क्रांतिकारक थे | उन्होंने देश के लिए अपना बलिदान त्याग कर लिया | उसकी वजह से हजारो युवक देश के लिए स्वंतत्रता लढ रहे थे |

चंद्रशेखर आजाद के शहीद होने बाद अपने देश को १५ अगस्त १९४७ को स्वतंत्रता मिल गयी | उनका आज़ादी का सपना पूरा हो गया |

निष्कर्ष :

चंद्रशेखर आजाद को स्वतंत्रता सेनानी के रूप में उनको सदैव याद किया जायेगा | उनका एक सपना था की अपने देश को आज़ादी मिलने का और वो सपना उनका पूरा हो गया |

संबंधित लेख:  प्रदुषण पर निबंध - पढ़े यहाँ Hindi Essay in Pradushan

आज के दुनिया सभी लोग इनको याद करते है | हम ऐसे महान क्रांतिकारी व्यक्तियों को हमेशा याद रखेंगे |

Updated: February 28, 2019 — 10:45 am

Leave a Reply

Your email address will not be published.