कैरम बोर्ड पर निबंध – पढ़े यहाँ Carrom Board Essay In Hindi

प्रस्तावना:

देश में खेले जाने वाले अन्य खेलों में से कैरम बोर्ड यह भी एक खेल हैं | कैरम यह एक सबसे सरल खेल हैं | लोग अपने मनोरंजन के लिए खेल खेलते हैं | कैरम बोर्ड यह खेल बच्चों, महिला और जवान, बूढ़े लोग भी खेल सकते हैं |

यह खेल मनोरंजन के लिए अत्यंत लोकप्रिय हैं | कैरम बोर्ड को खेलने के लिए किसी मैदान की जरूरत नही होती हैं | यह खेल आसानी से खेला जाता हैं |

कैरम बोर्ड की रचना

कैरम बोर्ड यह प्लाईवुड और हार्ड बोर्ड पर खेला जाने वाला खेल हैं | इस बोर्ड का चौकोर होता हैं | इसके निचे लकड़ी का फ्रेम लगाया जाता हैं क्यों की यह कैरम बोर्ड मजबूत रहे | इस कैरम बोर्ड के चारों तरफ छेद होते हैं |

खेलने वाला खिलाडी इस चारों छेद के बिच में गोटी डालते हैं | कैरम बोर्ड के बिच में एक बड़ा सर्कल होता हैं, जिसकी गोलाई १५ सेमी तक होती हैं |

गोटियों का खेल

कैरम बोर्ड यह खेल गोटियों से खेला जाता हैं | इस खेल में गोटियाँ लाल, सफ़ेद और काले रंग की होती हैं | इस खेल को कैरम गोटी और स्ट्राइक के साथ खेला जाता हैं |

जिसमे ९ गोटी काले रंग की और ९ गोटी पीले रंग की होती हैं | इसमें जो लाल रंग की गोटी होती हैं उसे क्वीन कहाँ जाता हैं |

संबंधित लेख:  विद्यार्थी जीवन में अनुशासन के महत्त्व पर हिंदी निबंध - पढ़े यहाँ Vidyarthi Jeevan Mein Anushasan Ka Mahatva Essay In Hindi

स्ट्राइकर क्या होता है

जब यह खेल खेला जाता है, तो गोटों को हिट करने के लिए स्ट्राइकर का उपयोग किया जाता हैं |

स्ट्राइकर के साथ गोट को निशाना लगाकर गोट को छेद में डाला जाता हैं | स्ट्राइकर का निशान ऐसा लग्न चाहिए की गोट छेद में चली जानी चाहिए |

कैरम खेलने के नियम

इस खेल को खेलने ४ खिलाडियों की जरुरत होती हैं | ४ खिलाडी एक दुसरे के सामने होते हैं | हर एक टीम के अंक अलग-अलग जोड़े जाते हैं |

जिस टीम के खिलाडियों के स्कोर ज्यादा होते हैं वो टीम जीत जाती हैं |

कैरम बोर्ड खेलने का गेम २९ अंकों का होता हैं | यह मैच तीन पारियों में खेली जाती हैं |

जो खिलाडी इन तीन पारियों को पूरा करती हैं वो टीम जीत जाती हैं |

कैरम बोर्ड पर खिलाडी को स्ट्राइकर को ऐसा रखे की वह दो लाइन को टच करे | यदि स्ट्राइकर एक लाइन को टच करता हैं तो उसे फाउल माना जाता हैं |

खेल के अंत में जब कैरम बोर्ड पर लाल, पिली और काली गोटी रह जाती हैं, तो खिलाडी को लाल गोटी सबसे पहले हासिल करनी होती हैं |

निष्कर्ष:

कैरम बोर्ड यह एक आसानी से खेलने वाला खेल हैं | इस कैरम बोर्ड का प्रदर्शन सन १९२९ में सबसे पहले मुंबई में हुआ था | इसके कारण इस खेल की लोकप्रियता बढ़ने लगी | कैरम बोर्ड यह एक बहुत अच्छा और मनोरंजक खेल हैं |

संबंधित लेख:  कैशलेस इंडिया पर निबंध - पढ़े यहाँ Essay On Cashless Economy In Hindi
Updated: August 21, 2019 — 6:14 am

Leave a Reply

Your email address will not be published.