बेटी बचाओं, बेटी पढाओं पर निबंध – पढ़े यहाँ Beti Bachao Abhiyan Essay In Hindi

प्रस्तावना:

हमारे इस धरती पर पुरुष और महिला इन दोनों का होना बहुत जरुरी हैं | इन दोनों के समानता के बिना मनुष्य जाती का अस्तित्व संभव नहीं हैं |

पुरुष और महिला यह दोनों देश और समाज के विकास के लिए महत्वपूर्ण हैं | देश में लिंगपात और कन्या भ्रूण हत्या को रोकने के लिए बेटी बचाओं, बेटी पढाओं यह सरकार के द्वारा एक मुहीम शुरू की गयी हैं |

बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ इस योजना की शुरुआत इसलिए करनी पड़ी क्योंकि इस योजना के तहत देश के सभी लड़कियों को पढने के लिए प्रेरित किया जायेगा |

बेटी बचाओं, बेटी पढाओं योजना की शुरुआत 

सभी बेटियों की रक्षा और उन्नति के लिए हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदीजी ने इस योजना की शुरुवात २२ जनवरी, २०१५ को हरियाणा राज्य के पानीपत जिले में की थी |

इस योजना की शुरुआत इसलिए की गई कि, ज्यादा से ज्यादा लोग अपनी बेटियों की शिक्षा पर ध्यान दे और बेटियों को समाज में उतना महत्व दे, जितना पुरुषों को दिया जाता हैं |

बेटी बचाओं, बेटी पढाओं योजना का कारण 

इस योजना के तहत सभी लोग बेटियों के प्रति अपनी रुढ़िवादी मानसिक सोच को बदलना |

इस योजना के अंतर्गत कन्या भ्रूण हत्या के खिलाफ आवाज उठाई गयी |

संबंधित लेख:  खेलो के महत्व पर निबंध -पढ़े यहाँ Essay On Importance Of Sport In Hindi

हमारे देश में बेटियों के साथ होने वाले अत्याचारों के खिलाफ एक संघर्ष हैं |

इस योजना के द्वारा समाज और देश में लड़कियों को समान अधिकार दिए जा सकते हैं |

इस योजना का मुख्य उद्देश्य है की, लिंगपात पर प्रतिबंध लगाना |

बेटी बचाओं, बेटी पढाओं योजना की जरुरत

कई लोगों की मानसिक सोच गलत होने के कारण लड़कियों को घर से बाहर निकलने नहीं देते थे और उन्हें पढने के लिए नहीं भेजते थे | लकड़ियों के ऊपर घर की जिम्मेदारी सौपी जाती थी | उन्हें चार दीवारों के अंदर ही रखते थे |

दहेज प्रथा की वजह से कई लोग लड़कियों को माँ के गर्भ में ही मार देते थे | लड़कियों की शादी पर लड़के के परिवार को दहेज़ देना पड़ता था | इसलिए लोग लड़कियों की हत्या करते थे |

उसके साथ – साथ बढ़ते बलात्कारों की वजह से लोग लड़कियों को घर से बाहर नहीं निकलने देते थे | कई लोग अपनी गरीबी की वजह से भी लड़कियों को नहीं पढ़ा पाते थे |

निष्कर्ष:

सभी लोगों को बेटी बचाओं, बेटी पढाओं इस योजना को सफल बनाने के लिए सहायता करनी चाहिए | लोगों को अपनी सोच को बदलकर बेटियों को पढ़ने के लिए भेजना चाहिए |

हमारे भारत देश के हर एक नागरिक को बेटियों को बचाने के लिए उनका समाज में स्तर सुधारने के लिए प्रयास करना चाहिए |

संबंधित लेख:  पर्यावरण 'वातावरण' पर निबंध - पढ़े यहाँ Vatavaran Essay In Hindi

बेटी बचाओं, बेटी पढाओं यह सरकार के द्वारा चलाई गयी एक बहुत अच्छी योजना हैं |

Updated: May 25, 2019 — 8:41 am

Leave a Reply

Your email address will not be published.