डॉ.ए.पी.जे.अब्दुल कलाम पर हिंदी में निबंध – पढ़े यहाँ Apj Abdul Kalam Hindi Essay

प्रस्तावना :

देश के पूर्व राष्ट्रपति एवं अग्नि मिसाइल को उड़ान देने वाले भारत के प्रख्यात और मशहूर वैज्ञानिक, ए. पी. जे.अब्दुल कलाम को मिसाइल मैन और जनता के राष्ट्रपति के नाम से जाना जाता है | क्योंकि बैलिस्टिक मिसाइल और स्पेस रॉकेट टेक्नोलॉजी के विकास में उन्होंने बहुत बड़ा योगदान दिया है |

जन्म :

APJ Abdul Kalam देश को परमाणु शक्ति से सुसज्जित करने वाले महान वैज्ञानिक भारत रत्न डॉक्टर ए. पी. जे. अब्दुल कलाम  का जन्म १५ अक्टूबर १९३१ में दक्षिण भारत के तमिलनाडु के रामेश्वरम जिले के धनुषकोडि गाँव के एक मछुआरे परिवार में हुआ था | उनका पूरा नाम अवुल पाकिर जैनुल्लाब्दीन अब्दुल कलाम था | उनके पिता का नाम जैनुल्लाब्दीन था जो एक नाविक थे और माता का नाम आशिअम्मा एक गृहिणी थीं |

शिक्षा :

Essay on Dr. APJ Abdul Kalam 3 डॉक्टर ए. पी. जे. अब्दुल कलाम की प्रारंभिक शिक्षा रामेश्वरम् के प्राइमरी स्कूल  हुई और स्कूली शिक्षा रामनाथपुरम् के श्वार्ट्ज मिशनरी हाई स्कूल से प्राप्त हुई थी | स्कूली शिक्षा के बाद उन्होंने तिरुचिरापल्ली के सेंट जोसेफ कॉलेज में लिया | सन १९५५ में उन्होंने मद्रास इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी से अंतरिक्ष विज्ञान में स्नातक की डिग्री प्राप्त किये |

ए. पी. जे. अब्दुल कलाम के घर की आर्थिक स्थिति अच्छी न होने के कारण उन्हें अपनी शिक्षा ग्रहण करने में काफी संघर्ष करना पड़ा था | वे अखबार बेचकर अपना फीस भरते थे |ए. पी. जे. अब्दुल कलाम मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी इंजिनीरिंग में उपाधि प्राप्त किये |

Essay on Dr. APJ Abdul Kalam 2 सन १९५८ में डी. टी. डी. एंड पी. में तकनीकी केंद्र में वरिष्ठ वैज्ञानिक सहायक के पद पर नियुक्त हुए | १९६३ से १९८२ तक ए. पी. जे. अब्दुल कलाम ने अंतरिक्ष अनुसंधान समिति में विभिन्न पदों पर काम किया |

भारत सरकार में एक वैज्ञानिक सलाहकार के रुप में साथ ही साथ इसरो और डीआरडीओ में अपने योगदान के लिये सन १९८१ में गणतंत्र दिवस के शुभ अवसर पर डॉ अब्दुल कलाम को ‘पद्म भूषण’ से सम्मानित किया गया | भारत सरकार द्वारा सन १९९० में उन्हें ‘पद्म विभूषण’ और भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया | २५ जुलाई २००२ में डॉ. ए. पी. जे. अब्दुल कलाम ने भारत की राष्ट्रपति के रूप में शपथ लिए |

Essay on Dr. APJ Abdul Kalam 1 डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम भारतीय गणतंत्र के ग्यारहवें निर्वाचित राष्ट्रपति थे | वे भारत के पूर्व राष्ट्रपति, वैज्ञानिक और अभियंता के रूप में प्रसिद्द थे | वैज्ञानिक राष्ट्रपति होने के साथ डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम एक संवेदनशील लेखक भी थे |

कुम्भकोणम में अग्निकांड में आग से जलने वाले बच्चों पर उन्होंने कविता से अपने उद्गार व्यक्त किये | उनकी आत्मकथा Wings of Fire युवाओं को प्रेरित करने वाली एक और पुस्तक Guiding Souls – Dialogues of the purpose of Life जो उनके आध्यात्मिक विचारों को प्रदर्शित करती है |

एपीजे अब्दुल कलाम

दिल का दौरा पड़ने के कारण डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम का निधन २७ जुलाई २०१५ की शाम को हुई | मेघालय के राज्यपाल वी. षडमुखनाथन अब्दुल कलाम के हॉस्पिटल में प्रवेश की खबर सुनते ही सीधे अस्पताल में पहुंचे उन्होंने बताया की उन्हें बचाने की पूरी कोशिशों के बाद भी उनका निधन हो गया |

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *