आज की नारी पर निबंध – पढ़े यहाँ Today’s Women Essay In Hindi

प्रस्तावना:

प्राचीन काल में नारी को समाज में उच्च स्थान दिया जाता था | उसे एक देवी की तरह माना जाता था | नारी वही होती हैं जो बेटी, पत्नी, बहन और एक माँ का कर्तव्य निभाती हैं |

नारी पुरे परिवार को सँभालने के लिए जीवन अर्पण करती हैं | भारत देश में अंग्रेज सरकार का साम्राज्य आने के कारण नारी का अस्तित्व कम होने लगा | उसको गुलामगिरी का जीवन जीना पड़ता था |

प्राचीन समय में नारी का जीवन

देश स्वतंत्र होने से पहले नारी को घर में रखा जाता था | उसे घर से बाहर निकलने, पढाई करने के लिए और पुरुषों की तरह काम करने के लिए अनुमति नही दी जाती थी | लेकिन भारत देश को स्वतंत्रता मिलने के बाद नारी के वर्ग में परिवर्तन होने लगे |

महान नारियों का कार्य

जब देश में अंग्रेजों के राज्य में रानी लक्ष्मीबाई, चाँद बीबी इत्यादि नारियों ने देश के लिए अच्छा योगदान दिया और आज उनका नाम इतिहास की पन्नों में अमर हो गये हैं |

प्राचीन काल में नारियों को शिक्षित करने के लिए सावित्रीबाई फुले इन्होने नारी को शिक्षा प्राप्त करने के लिए स्कूल शुरू किये | स्वतंत्रता संग्राम में नारियों का बहुत बड़ा योगदान हैं |

समान अधिकार

हमारे भारत देश का संविधान २६ जनवरी, १९५० को लागु हुआ | इस संविधान के अनुसार नारी और पुरुषों के लिए समान अधिकार बनाये गए |

आज के युग में हैं एक नारी अपने हक्क के लिए खुद लढ सकती हैं | अपने जीवन का निर्णय खुद ले सकती हैं | आज की नारी चार दिवारों से बाहर हर एक क्षेत्र में कार्य कर रही हैं |

आज की नारी जीवन

आज की नारी अपना जीवन अलग से जी रही हैं | आज की नारी अपने परिवार का और बच्चों का अच्छे से देखभाल कर रही हैं | आज के नारी ने हर एक क्षेत्र में सफलता प्राप्त की हैं |

आज के युग में नारी पुरुषों के साथ – साथ कंधे से कंधे मिलाकर आगे बढ़ रही हैं | नारी ने समाज में यह सिद्ध करके दिखाया हैं की, उनके पास शक्ति और सहन करने की क्षमता पुरुषों से भी ज्यादा होती हैं |

निष्कर्ष:

आज की नारी कमजोर नहीं हैं, वो अपनी जिंदगी के फैसले स्वयं करने लगी हैं | और समाज में धीरे धीरे सकारात्मक बदलाव भी होने लगे हैं | आज के युग में लोगो के गलत सोच में भी परिवर्तन होने लगा हैं और नारी के प्रति समाज और देश में सम्मान बढ़ गया हैं |

उसके कारण मनुष्य के विचारों को आर्थिक और सामाजिक रूप से महिलाओं के प्रति बाद दिया हैं | जब देश में पुरुष और नारी को समान रूप से देखा जायेगा तो हमारे देश का विकास हो जायेगा |

Updated: March 29, 2019 — 11:20 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *