बाघ पर निबंध – पढ़े यहाँ Tiger Essay In Hindi

प्रस्तावना

बाघ भारत देश का राष्ट्रीय पशु हैं | वो एक मांसाहारी जानवर हैं वो स्तनधारियों के श्रेणी में आता हैं | वो मनुष्यों की तरह बच्चो को जन्म देता हैं | बाघ की ८ प्रजातिया होती हैं | बाघ को भारत सरकार द्वारा राष्ट्रिय पशु घोषित किया हैं |

बाघ सबसे पहले एशिया में पाए जाते थें | भारत देश में रहने वाले बाघ को ‘रॉयल बंगाल टाइगर’ नाम से जाना जाता हैं | बाघ एक हिंसा पशु हैं वो हिरण और जंगली सूअर का शिकार करता हैं |

बाघ की शरीर रचना

बाघ का शरीर काफी मजबूत होता हैं | बाघ का रंग पिला और हल्का सा भूरा होता हैं , जिस पर काली धारिया की पट्टी होती हैं | बाघ की पूंछ बहुत लम्बी होती हैं | बाघ को चार पैर होते हैं और वो बहुत शक्तिशाली होते हैं  |

बाघ के पंजों में नुकीले नाख़ून होते हैं | इसके दाँत बहुत बड़े और धारदार होते हैं | बाघ की शरीर की सरंचना ऐसी होती हैं की वो ज्यादा ऊँची जगह से भी छलांग लगा सकते हैं |

बाघ की अनेक प्रकार की प्रजातिया होती हैं और उनकी शरीर की रचना भी भिन्न-भिन्न रहती हैं | बाघ अपने आगे के दोनों पेरो से शिकार करते हैं और उन्हें खीचते हैं | बाघ ज्यादा तो जंगल में ही पाए जाते हैं |

विविध देशों

विविध देश में बाघ पाए जाते हैं | बाघ यह जानवर को चीन, थायलंड, बांगलादेश, रूस और कोरिया, ईरान, इंडोनेशिया इस अलग-अलग देशों में भी पाया जाता हैं | विशेष रूप से बाघ भारत और सायबेरिया, भूटान देश में पाए जाते हैं |

बंगाल टायगर ज्यादा तो सुंदरबन ( पानी वाले जंगल में ) पाए जाते हैं | बाघ कई प्रकार की अलग-अलग आवाजे निकालते हैं | बाघ अनेक प्रकार के भी होते हैं |

बाघ का संरक्षण

भारत देश में बाघों की संख्या कम होती जा रही हैं | बाघों का संरक्षण करना जरुरी हैं | बाघों को बचाने के लिए सरकार ने संरक्षण केन्द्रों की स्थापना की हैं | अपने पुरे देश में कम से कम २३ संरक्षण केन्द्रों की स्थापना की गयी हैं |

भारत सरकार ने ‘सन १९७३’ में ‘बंगाल टाइगर’ को राष्ट्रीय पशु घोषित कर दिया | सन २०१० में रूस के सेंट पीटर स्बर्ग ने एक सभा के दौरान पर २९ जुलाई को पुरे देश इंटरनेशनल टायगर दिवस मनाने का फैसला किया |

इसकी वजह से बाघों की संख्या कम होने पर केन्द्रित किया जा सकता हैं | पुरे देश में बाघों की सुरक्षा और प्राकृतिक वातावरण के लिए अभयारण्यों को बनाया गया हैं |

निष्कर्ष :

बाघ हमारे देश का राष्ट्रीय पशु हैं और वो सबसे शक्तिशाली वन्य जीव हैं | बहुत सारे लोग इनकी शिकार करते हैं और जंगलों को भी नष्ट कर रहे हैं |

उसकी वजह से उनको रहने के लिए जगह भी नही मिल पा रही हैं | इसलिए उनकी शिकार करने के लिए प्रतिबंध कायदा किया हैं |

Updated: March 22, 2019 — 5:48 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *