शिक्षक दिवस पर निबंध हिंदी में – यहाँ पढ़े Teachers Day Essay In Hindi

प्रस्तावना :

हर इन्सान के जीवन में उसको परिपूर्ण करने वाला कोई न कोई व्यक्ति रहता है | जैसे की माँ अपने बच्चो को बड़ा करना या उसको परिपूर्ण करना उसका कर्तव्य है | वैसे ही शिक्षक बच्चों को पूरी तरह से ज्ञान देकर उनको बड़े कर देते है |

बच्चे लोग जब स्कूल में प्रवेश करते है तो शिक्षक के शरण में जाते है और बच्चो को ज्ञान देना उनका कर्तव्य बनता है | शिक्षक को अपने माँ समान समजते है | अपने भारत देश में ५ सितम्बर को शिक्षक दिन मनाया जाता है | पाठशाला में इस दिन हर एक शिक्षक को फूल या पुष्पगुच्छ देकर उनका सन्मान किया जाता है |

पाठशाला की शुरुवात 

पहिले के ज़माने में लोग बच्चे लोग को पढ़ाते नही थे | इसलिए महात्मा ज्योतिबा फुले और उनकी पत्नी सावित्रीबाई फुले इन दोनों ने गाँव-गाँव में पाठशाला शुरु की | पुराने ज़माने में महिलाओ को घर से निकलना बहुत मुश्किल हो गया था। इसलिए सावित्रीबाई फुले इन्होने पाठशाला शुरू करने का फैसला लिया।

लेकिन सावित्रीबाई फुले इनको बहुत सारे मुश्किलों का सामना करना पड़ा | उन्होंने अश्पृश्य बच्चो के लिए पुणे में स्कूल की स्थापना की। सावित्रीबाई फुले इन्होने पहिली पाठशाला शुरू की । इसलिए उनको भारत की पहिली पाठशाला शुरू करने वाली पहिली भारतीय महिला कहा जाता है।

शिक्षक की महत्वता

शिक्षक बच्चो के जीवन में एक महत्वपूर्ण ऐसा इन्सान होता है की, अपना प्यार, ज्ञान, हिम्मत और देखभाल यह सब चीजो का ख्याल रखकर जीवन को एक आकार देता है | शिक्षक को भगवान के रूप में माना जाता है | शिक्षक भगवान का रूप होते की क्यूँ की भगवान पुरे संसार का निर्माता होता है और शिक्षक अच्छे देश का निर्माता होता है |

शिक्षक एक निर्माता 

एक शिक्षक हर व्यक्ति के जीवन में क्षेत्र में उसका महत्वपूर्ण स्थान होता है | शिक्षक के पास बहुत सारे गुणों का भंडार होता है जिन्हे वो अपने विद्यार्थियों में बाँट देता है। शिक्षक को पता चलता है की, हर विद्यार्थी की पास ग्रहण करने की क्षमता नही होती है इसलिए वो अपने छात्रों को अपने भाषा में समजा के उनकी मदद करता है।

शिक्षक अपने बच्चों को जीवन के बारे में शिक्षा देते है। शिक्षक बच्चो के अंदर ज्ञान का प्रकाश डालते है और अंधकार को दूर कर देते है। शिक्षक बच्चो को सही रास्ता दिखाने का काम करते है । शिक्षा के क्षेत्र में शिक्षक अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते रहते है।

उनका जीवन शानदार और बेहतरीन बनाने को प्रोत्साहित करते है | शिक्षक के बिना हर एक छात्रों का जीवन सामाजिक और मानसिक रूप से विकसित नही हो सकता |

जीवन में सफलता

शिक्षक हर व्यक्ति के जीवन एकमेव गुरु है | जीवन में शिक्षक को बहुत माना जाता है | जीवन में शिक्षा एक बड़ी शक्ति है उसको पाने के लिए हर व्यक्ति को हर किसी चीज से सामना करना पड़ता है | जीवन में विजय और सफलता पाने के लिए शिक्षा के बारे में जानना बहुत जरुरी है |

एक शिक्षक अपने छात्रों को निस्वार्थ भाव से ज्ञान देता है और उनको जीवन में सफल बनाने ने की कोशिश करता है | उनके इस काम की तुलना और किसी भी काम से नही की जा सकती है | इसलिए उनको गुरु और भगवान कहा जाता है |

निष्कर्ष

शिक्षक हमेशा हर बच्चे को उनको जो बनना है वो बनायेंगे और उनको अच्छे रास्ते पर चलने की सलाह देंगे  | वो भविष्य के निर्माता भी है |

Updated: February 21, 2019 — 12:31 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *