हंस पर निबंध – पढे यहाँ Swan Essay In Hind

प्रस्तावना :

सभी पक्षियों में से हंस यह पक्षी सबसे बड़ा और श्रेष्ठ माना जाता है | हंस यह पक्षी जल में रहने वाला और बहुत ही खुबसूरत पक्षी है | इस हंस पक्षी को प्यार का और पवित्रता का प्रतिक माना जाता है |

हंस और बत्तख यह दो पक्षी मिलते जुलते है | यह दोनों पक्षी अपना जीवन ज्यादा तो पानी में ही गुजारते है | यह पक्षी दिखने में बहुत सुन्दर दिखते है |

हंस की प्रजाती

पुरे विश्व में हंस की ७ से भी ज्यादा प्रजातिया पायी जाती है | हंस काले और सफ़ेद रंग में दिखाई देते है | ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड इस देश में काले रंग के हंस का निवास है |

हंस एक जलचर पक्षी है | उनके – अलग अलग प्रजातियों की चोंच का रंग काला, पिला, नीला और नारिंगी, गुलाबी होता है | यह भिन्न भिन्न प्रजाति में पाए जाते है |

हंस का शरीर रचना और जीवन

हंस अपना पूरा जीवन एक साथी के साथ रहकर ही गुजारते है | हंस के पंख बहुत मुलायम होते है | हंस का स्वभाव बहुत शर्मीला होता है | उनकी गर्दन बहुत पतली और लंबी होती है |

हंस अपना जीवन कम से कम १० साल तक जी सकते है | लेकिन कोई कोई हंस १५ साल तक भी अपना जीवन जीता है | यह पक्षी नदी, तलब और नहरे में होता है |

हंस का भोजन

हंस छोटी छोटी मछलीया, कीड़े मकोड़े, अन्य प्रकार के फलों के बीज, घास और हरे शैवाल ई. खता है | उसके साथ साथ हंस बेर भी खाता है |

देवी शारदा का वाहन

हमारे हिन्दू धर्म में हंस को माँ शारदा का वाहन माना जाता है | यह एक सुख और समृद्धि का प्रतिक माना जाता है | हिन्दू धर्म में हंस मारा नही जाता है |

हिन्दू धर्म में इस हंस पक्षी की पूजा की जाती है | हंस यह एक पवित्र पक्षी है | इस हंस पक्षी का हिन्दू धर्म में बहुत महत्त्व है |

हंस पक्षी की सुन्दरता हर किसी को आकर्षित करती है | यह पक्षी कभी किसी को नुकसान नही पहुचाते है | हंस पक्षी एकदम शांत स्वाभाव का होता है |

निष्कर्ष :

हंस यह एक बहुत सुन्दर पक्षी है जो अपने भारत देश में ही दिखाई देता है | हंस पक्षी के मानसरोवर में रहते और वहा पानी में वो दाना चुगते है | सही पक्षी में से यह हंस पक्षी को सबसे पवित्र मन जाता है |

Updated: March 9, 2019 — 6:32 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *