गौरैया पर निबंध – पढ़े यहाँ Sparrow Essay In Hindi

प्रस्तावना:

गौरैया यह एक बहुत छोटी और सुंदर हैं | हमारे देश में पक्षियों की बहुत सारी प्रजातिया पायी जाती हैं | गौरैया यह पक्षी पुरे देश में पाया जाता हैं |

यह ज्यादा तो गावों में पायी जाती हैं | गौरैया ज्यादा तो पेड़ों पर और घरों में देखने के लिए मिलती हैं | गौरैया पेड़ों पर अपना घोसला बनाकर रहती हैं |

गौरैया की शारीरिक रचना

गौरैया का रंग हल्का भूरा और सफ़ेद होता हैं | इसकी पिली चोंच होती हैं, वो दिखने में बहुत आकर्षक दिखती हैं |

गौरैया के चोंच और आँखों पर काला रंग होता हैं | इनके पैर भी भूरे रंग के होते हैं | गौरैया का भोजन गौरैया यह सर्वाहारी होती हैं |

यह गौरैया फूलों के बीज, अनाज और उसके साथ फसलों के लिए हानिकारक कीड़ों को खाती हैं | गौरैया भोजन की तलाश में कई मिलों का सफ़र करती हैं |

गौरैया यह ची – ची करने वाला एक सुंदर पक्षी हैं और शाम के समय झुंड के साथ निकलती हैं | गौरैया को सभी तरह का जलवायु पसंद हैं | लेकिन गौरैया पहाड़ी क्षेत्र में बहुत कम पायी जाती हैं |

गौरैया की प्रजाति विलुप्त

मनुष्य पेड़ों की कटाई करने लगा और समय के साथ – साथ गौरैया की प्रजाती नष्ट होने लगी | गौरैया ज्यादा तो पेड़ों पर अपना घोसला बनाकर रहती थी | लेकिन पेड़ों की कटाई होने से वो अपना घोसला नही बना पाती हैं और उनको रहने के लिए उचित जगह नही मिल रही हैं |

कई लोग अपने खेती के फसलों पर हानिकारक दवाइयों की उपयोग करते हैं, जब कीड़ों को खाने से उनकी मृत्यु होने लगी हैं | पर्यावरण प्रदूषित होने के कारण भी गौरैया की प्रजाती नष्ट हो रही हैं | इन पक्षियों की प्रजाती विलुप्त होने के कारण प्रकृति की सुंदरता गायब हो रही हैं |

गौरैया दिवस

गौरैया की प्रजाति लुप्त हो रही है, इसलिए हम लोगों में जागरूकता फ़ैलाने के लिए हर साल २० मार्च को गौरैया दिवस के रूप में मनाया जाता हैं |

गौरैया को बचाने के उपाय

हम सभी को गौरैया के प्रजाति को बचाने के लिए पेड़ों को लगाना चाहिए उनकी कटाई नही करनी चाहिए |

फसलों पर किटकनाशक दवाइयों का उपयोग ज्यादा नही करना चाहिए |

उनको स्वच्छ वातावरण में रहने के लिए पर्यावरण को प्रदूषित नही करना चाहिए |

गौरैया को बचाने के लिए हमें छतों पर इनके के लिए दाने और पानी व्यवस्था करनी चाहिए |

निष्कर्ष:

गौरैया यह बहुत ही सुंदर पक्षी हैं | यह छोटीसी होती हैं लेकिन बहुत फुर्तीली होती हैं | इस गौरैया को कई जगह पर अलग – अलग नामों से जाना जाता हैं |

कोई गौरैया को चिमनी, तो कोई गौरैया, तो कोई चिड़िया कहता हैं | गौरैया यह पक्षी पुरे विश्व में पाया जाने वाला एक पक्षी हैं |

Updated: April 6, 2019 — 6:41 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *