चिड़िया पर निबंध – पढ़े यहाँ Sparrow Essay In Hindi

प्रस्तावना :

भारत देश में पक्षियों की बहुत प्रजाति है | उन पक्षियों में से सबसे छोटा और सुन्दर पक्षी चिड़िया है | चिड़िया सबसे पहिले घरों के छतों पर और पेड़ों पर बैठी हुई मिल जाती थी | लेकिन चिड़िया अब ज्यादा दिखाई नही देती है |

पेड़ो के कटाई और कीटक नाशकों की वजह से चिड़िया की प्रजाति लुप्त हो जा रही है | चिड़िया को सभी लोग अलग अलग नाम से बुलाते थे | जैसे कोई चिमनी, तो कोई गौरैया, तो कोई चिड़ी इ. नामों से बुलाते है |

चिड़िया की शरीर रचना

चिड़िया की लम्बाई कम से कम १४ से १६ सेमी तक होती है | चिड़िया हर अलग – अलग रंगों में दिखाई देती है | लेकिन चिड़िया का रंग ज्यादा तो भूरा और सफ़ेद ही रहता है |

चिड़िया की चोच पिली रंग की होती है और दिखने में बहुत आकर्षित दिखती है | चिड़िया के आँखों और चोच पर काला रंग होता है और इनके पैर भूरे रंग के होते है |

चिड़िया का जीवनकाल

चिड़िया का जीवन काल ४ से ७ साल तक होता है | चिड़िया ज्यादा तो समूह में रहना पसंद करती है | वो ज्यादा तो इंसानों के घर के पास और पेड़ो पर घोसला बनाकर रहती है |

चिड़िया पहाड़ी के भाग में कम पाई जाती है | चिड़िया एक ऐसा पक्षी है जो सबसे ज्यादा एशिया और यूरोप में पाया जाता है |

वो सर्वहारी होती है | चिड़िया अनाज, फुल और बीज यह सब खाते है और उसके साथ साथ फसलों के लिए हानिकारक कीड़ो को भी खाती है | लेकिन फसलों पर कीड़ो को नष्ट करने के लिए उसके ऊपर कीटक नाशक की दवाइयों का इस्तेमाल किया जाता है |

यह हानिकारक दवाइयों का दुष्प्रभाव चिड़िया पर होता है | यह अपने भोजन के लिए बहुत ज्यादा सफ़र करती है | चिड़िया कम से कम प्रति घंटे २४ मील प्रति घंटे की गति से उडती है |

 चिड़िया नष्ट होने के कारण

आज के दुनिया में चिड़िया बहुत कम दिखाई देती है | इसकी प्रजाति लुप्त हो जा रही है | चिड़िया ज्यादा तो पेड़ो पर बैठी हुई दिखाई देती थी | लेकिन पेड़ो की कटाई की वजह से उनको अपना घोंसला बनाने के लिए जगह नही मिलती है और रहने के लिए वो अपना स्थान स्थापित नहीं कर पाति है | उसके साथ वो फसलों में से कीड़ो को खाती है | लेकिन उस पर हानिकारक दवाइयों का उपयोग किया जाता है | जब वो खाती है तो उसके कारण उनकी मृत्यु हो जाती है | कभी कभी चिड़िया बिजली के तारों पर भी बैठती है | उसके कारण भी उनकी मृत्यु होती है | इसलिए इनकी संख्या बहुत कम हो रही है |

चिड़िया दिवस

हम सबको इस चिड़िया के प्रजाति को बचाना जरुरी है | पुरे देश में २० मार्च को चिड़िया दिवस मनाया जाता है | लोगो के जीवन में जागरूकता फ़ैलाने के लिए इस दिन को मनाया जाता है |

निष्कर्ष :

चिड़िया को बचाने के लिए हमें बहुत सारे पेड़ लगाने की जरुरत है | चिड़िया एक बहुत सुन्दर पक्षी है | चिड़िया की प्रजाति बचाने के लिए हर इन्सान को प्रकृति का रक्षण करना होगा |

Updated: March 6, 2019 — 12:37 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *