शिमला पर निबंध – पढ़े यहाँ Shimla Essay In Hindi

प्रस्तावना:

शिमला यह बहुत ही खूबसूरत पर्वतीय स्थान है | शिमला उत्तर भारत के हिमाचल प्रदेश की राजधानी हैं | शिमला को एक प्रसिद्ध पर्यटन स्थल के रूप में देखा जाता हैं | इसके चारों तरफ हरियाली, बर्फ से ढके हुए पहाड़ और सुंदर तालाबों से समृद्ध हैं |

दुनिया के सभी लोगों के लिए शिमला पर्यटन स्थलों में से एक महान जगह हैं | शिमला को ‘पहाड़ियों की रानी’ के रूप से जाना जाता हैं | शिमला में शांत वातावरण, अच्छा माहौल और सुंदरता वाला खुबसूरत शहर हैं |

कई लोग गर्मी के मौसम या बच्चों की स्कूल की छुट्टी होने पर परिवार के साथ शिमला शहर में घुमने के लिए जाते हैं | गर्मी के समय में शिममा में बहुत भीड़ रहती हैं | यहाँ पर देश – विदेश से पर्यटक आते हैं |

पर्यटन स्थल

रिज, जाखू पहाड़ी, मॉल रोड, कालका – शिमला रोड, क्राइस्ट चर्च, ग्रीष्मकालीन पहाड़ी, कुफरी यह सभी शिमला के पर्यटन बहुत ही आकर्षक स्थल हैं |

शिमला का राज्य संग्रहालय यह सबसे लोकप्रिय हैं | यह संग्रहालय माउंट प्लेजेंट इस जगह पर स्थित हैं | सन १९७४ में इस संग्रहालय को बनाया गया था | यह सौंदर्य कला और वास्तुकला का महान इतिहास के रूप में देखा जाता हैं | इस शिमला शहर की मौसम की स्थिति जम्मू कश्मीर की तरह हैं |

धार्मिक स्थल

यहाँ पर संग्रहालयों के साथ – साथ धार्मिक स्थल भी हैं | जैसे की काली बारी मंदिर, तारा देवी मंदिर, मोचा मंदिर, शूटिंग मंदिर, कामदेव मंदिर, लक्ष्मी नारायण मंदिर, कोई माही मंदिर, लुटुरु महादेव मंदिर, लंका वीर मंदिर यह प्रसिद्ध मंदिरे हैं |

शिमला में अलग – अलग प्रकार के त्यौहार मनाये जाते हैं | यहाँ पर हर साल शिमला समर फेस्टिवल यह पीक – सीजन में इसका आयोजन किया जाता हैं | शिमला में पार्क, अभयारण्य और अन्य पर्यटन स्थल हैं |

शिमला शहर का इतिहास

ब्रिटिश सरकारने नेपाल के राजा के साथ संघर्ष किया था | उस संघर्ष में नेपाल को हार माननी पड़ी और उन्होंने शिमला इस शहर पर कब्ज़ा प्राप्त किया |

सन १९४७ से १९५३ तक शिमला पूर्व पंजाब का कार्यालय बनके रहा | लेकिन सन १९६६ में पंजाब और हरियाणा के विभाजित होने के बाद शिमला यह हिमाचल प्रदेश की राजधानी के रूप में विकसित हुई |

निष्कर्ष:

शिमला यह बहुत ही सुंदर पर्यटन स्थल हैं | शिमला शहर बहुत खुबसूरत पहाड़ियों का स्थल हैं | इस शिमला शहर में कोई भी इंसान किसी भी मौसम में जा सकता हैं |

Updated: April 15, 2019 — 4:44 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *