सचिन तेंदुलकर पर निबंध हिंदी में – पढ़े यहाँ Sachin Tendulkar Essay In Hindi

प्रस्तावना :

सचिन तेंदुलकर भारत देश के एक अच्छा खिलाडी है | सचिन तेंदुलकर का पूरा नाम ‘सचिन रमेश तेंदुलकर’ है |

उन्होंने क्रीडा के क्षेत्र में बहुत बड़ा योगदान दिया है | उनके पिता ने उनका नाम संगीतकार ‘सचिन देव बर्मन’ के नाम पर रखा था |

जन्म

सचिन तेंदुलकर का जन्म २४ अप्रेल १९७३ को मुंबई शहर मु हुआ था | उनके पिता का नाम रमेश तेंदुलकर था | सचिन तेंदुलकर विवाह अंजलि तेंदुलकर से हुआ था |

उनके दो बच्चे है सारा और अर्जुन | उनका प्रिय खेल क्रिकेट था | सचिन तेंदुलकर का स्वाभाव सुशिल और सज्जन था |

क्रीडा क्षेत्र में प्रवेश

सचिन तेंदुलकर ने १९८९ में अपनी १६ वर्ष की उम्र में उन्होंने आंतर राष्ट्रिय क्रिकेट में पदार्पण कर दिया था | उन्होंने एक दिवसीय क्रिकेट सामना और टेस्ट में ज्यादा शतकं सम्प्पन किये थे |

सचिन तेंदुलकर ने सबसे ज्यादा रन बनाये थे | वो पुरे विश्व के प्रथम बल्लेबाज हैं | वो अपना खेल पुरे हिम्मत और आत्मविश्वास से खेलते थे |

सन २०१२ में वो राज्य सभा के सदस्य बनने के लिए नामित कर दिया | उन्होंने T20  इस सामना में अक्टूबर २०१२ में सन्यास लिया औए उन्होंने १६ नवबर २०१३ को उन्होंने आखिरी मैच खेला था | वेस्ट इंडीज के साथ उन्होंने आखिरी मैच खेली |

पुरस्कार प्रदान

सचिन तेंदुलकर को १९९४ में अर्जुन अवार्ड् मिला था | उसके बाद उन्हें १९९७ में राजीव गाँधी खेल रत्न यह पुरस्कार मिला और १९९९ में पद्मश्री, सन २००८ में पदमविभूषण यह पुरस्कार से सन्मानित किया गया |

वो एक ऐसे खिलाडी थे जीने इंडियन एयर फोर्स के द्वारा ग्रुप कप्तान का रैक मिला है | वो भारत देश के सबसे बड़े खिलाडी है | इन्हें देश में अलग अलग नाम से भी जानते है – जैसे की मास्टर ब्लास्टर और लिटिल मास्टर | ऐसे अनेक नमो से उनको जाना जाता है |

निष्कर्ष :

उन्होंने हमेंशा अपने खेल में जीत ही पाया है | उनकी बराबरी किसी और खिलाडीओं से नही की जा सकती है | वो देश के सबसे ज्यादा पुरस्कृत खिलाडी है | हम सभी भारतीयों को सचिन तेंदुलकर जैसे खिलाडी पर गर्व है |

Updated: March 6, 2019 — 8:18 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *