भारत की नदियों पर निबंध – पढ़े यहाँ Rivers Of India Essay In Hindi

प्रस्तावना:

मानव जीवन और देश का आर्थिक या सांस्कृतिक का विकास करने के लिए भारत की सभी नदियों का महत्वपूर्ण योगदान रहा हैं | हमारा देश यह कृषिप्रधान देश हैं | इस कृषिप्रधान देश में नदियों का विशेष महत्व हैं | यह मानव जाती की जीवनदायिनी होती हैं |

सभी नदियाँ मनुष्य को सहायता करती हैं | नदियों के द्वारा पूरी सजीव सृष्टी को जल प्राप्त हो जाता हैं | मनुष्य के द्वारा की जाने वाली खेती पूरी नदियों के जल के ऊपर निर्धारित होती हैं | हर एक नदी का विशेष महत्व होता हैं |

नदी एक जल स्त्रोत

हमारे भारतीय संस्कृति में नदियों को सिर्फ जल स्त्रोत के रूप में नहीं देखा जाता हैं | वो हमारी जीवन दायिनी होती हैं | वो सभी को जीवन देने वाली एक देवता के रूप में देखते हैं | कई लोगों का पूरा जीवन खेती पर निर्धारित होता हैं |

इसलिए व्यापारिक और सुविधा के लिए अधिकांश नगर नदी के किनारे पर स्थित हुए हैं | आज हमारे देश में अन्य धार्मिक स्थल किसी ना किसी नदी से सम्बंधित हैं |

भारत की नदियाँ

गंगा, ब्रह्मपुत्र, यमुना, गोदावरी, कावेरी, सिंधु, तापी, साबरमती और अन्य नदियाँ यह हमारी भारत देश की प्रमुख नदियाँ हैं | भारत की नदियों की मुख्य विशेषता होने के साथ – साथ धार्मिक महत्व भी हैं |

भारत की प्रमुख नदियाँ –

सिंधु नदी

यह नदी हमारे भारत देश की नहीं बल्कि एशिया की सबसे बड़ी नदी हैं | यह विश्व की महान नदियों में से एक नदी हैं |

यह नदी तिब्बत के मानसरोवर के पास से निकलती हैं और भारत होकर बहती हैं | भारतीय संस्कृति में इस  के इतिहास में इस नदी का विशेष उल्लेख किया गया हैं |

गंगा नदी

गंगा यह नदी हमारे देश की सबसे प्रसिद्द नदी हैं | इस नदी को सबसे पवित्र माना जाता हैं | गंगा नदी भारत की सांस्कृतिक एकता का प्रतिक हैं | यह हिमालय से निकलने वाली प्रमुख नदी हैं |

भारत के धर्म ग्रंथों में इस नदी को पावन माना गया हैं | गंगा नदी में स्नान करने से सारे पापों से मुक्ति मिल जाती हैं | इस नदी को धार्मिक ग्रंथों में पूज्यनीय माना हैं |

ब्रह्मपुत्र नदी

यह नदी तिब्बत के पठारों से निकलती हैं | ब्रह्मपुत्र नदी भारत में अरुणाचल प्रदेश तक बहती हैं | अरुणाचल प्रदेश में इस नदी को ‘सांगणों’ कहाँ जाता हैं | यह नदी पूर्वी भारत की सबसे प्रमुख नदी हैं | ब्रम्हपुत्र नदी एशिया की प्रमुख नदी हैं |

गोदावरी नदी

यह नदी पश्चिमी घाट से लेकर पूर्वी घाट तक प्रवाहित करती हैं | यह भारत की सबसे बड़ी दूसरी नदी हैं | यह नदी दक्षिण से निकलती हैं | यह गंगा नदी की तरह भारत की पवित्र नदी हैं |

इस नदी के किनारे पर कई मंदिरे भी स्थापित हुई हैं | यह नदी कृषि अर्थव्यवस्था के साथ – साथ देश की अर्थव्यवस्था को भी मजबूर करती हैं |

निष्कर्ष:

भारत देश में सभी नदी प्रणालियों का विशेष महत्व रहा हैं | सभी नदियाँ मनुष्य की सहायक होती हैं | कई नदियों को पूज्य भी माना गया हैं |

Updated: April 9, 2019 — 1:29 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *