गंगा नदी पर निबंध कक्षा ३ के लिए – पढ़े यहाँ River Ganga Essay In Hindi For Class 3

प्रस्तावना:

सभी नदियों में से गंगा यह हमारे देश की सबसे पवित्र नदी हैं | हमारी भारतीय संस्कृति और सभ्यता में गंगा नदी सबसे महत्वपूण नदी हैं | गंगा नदी को हमारे देश के इतिहास, संस्कृति, धर्म और प्रगति का प्रतीक माना जाता हैं |

हमारे हिन्दू धर्म में गंगा नदी को विशेष स्थान प्राप्त हुआ हैं | यह एक महिमामय नदी हैं | जो आकाश, धरती और पाताल जैसे तीनों लोकों में से प्रवाहित होती हैं |

गंगा नदी के नाम

गंगा नदी के अन्य नाम हैं | जैसे की भागीरथी, हेमवती, जान्हवी, मंदाकिनी, अलकनंदा इत्यादि गंगा नदी के नाम हैं | गंगा नदी को भागीरथी यह राजा भागीरथ के नाम से पड़ा हैं |

गंगा नदी का इतिहास

ऐसा माना जाता हैं की, राजा भागीरथ के साठ हजार पुत्र थे | परंतु शापवश के कारण वो साठ हजार पुत्र भस्म हो गए थे | उसके कारण एक दिन राजा ने कठोर तपस्या की | इसके फल के रूप में गंगा शिवजी के जटा से निर्माण होकर इस भारतभूमि जैसे देवभूमि पर अवतरित हुई |

इसके  कारण भगीरथ के साठ हजार पुत्रों का उद्धार हुआ | तभी से लेकर आज तक गंगा ने जाने कितने पापियों का उद्धार किया होगा |

गंगा नदी का उद्गम

इस गंगा नदी का उद्गम गंगोत्री से होता हैं | गंगा नदी हिमालय के उत्तरी भाग के गंगोत्री से निकलकर बंगाल की कड़ी में विसर्जित हो जाती हैं |

यह नदी ऋषिकेश, हरिद्वार, कानपुर, वाराणसी, पाटलिपुत्र, भागलपुर, मंदार गिरी और बंगाल इन सभी को सिंचित करती हुई गंगासागर में समाहित हो जाती हैं |

गंगा नदी की लम्बाई

इस गंगा नदी की लगबग २५१० किलोमीटर लम्बी हैं | हमारे देश में गंगा नदी को सन २००८ में भारत की राष्ट्रीय नदी का दर्जा दिया गया हैं | इस नदी को परिपूर्ण करने के लिए भागीरथी और अलकनंदा यह दों नदिया एक – दुसरे से जुड़ते हैं |

गंगा नदी की पवित्रता

हमारे हिन्दू धर्म में गंगा नदी को सबसे पवित्र माना जाता हैं | इस नदी में बहुत सारे लोग मकर संक्रांति के दिन स्नान करते हैं | ऐसा माना जाता हैं की, गंगा नदी में स्नान करने से मन शुद्ध हो जाता हैं और सारे पाप धुल जाते हैं | गंगा नदी के जल के सभी लोग बहुत पवित्र मानते हैं | इस जल का उपयोग शुभ कार्यों में किया जाता हैं |

धार्मिक महत्व

सबसे प्रथम लोग इस गंगा नदी के किनारे बसे और घाटी समृद्ध सभ्यता के कारण परिवर्तित हो गए | गंगा नदी के मैदान पर बहुत सारे युद्ध लडे गए | कई लोगों अपना साम्राज्य स्थापित किया औत कई लोगों उद्वस्त भी किया | गंगा नदी का पानी फसलों के लिए जल का स्त्रोत बना और नौकाओं के लिए एक परिवहन का साधन बन गया |

गंगा नदी की मुख्य विशेषता

इस गंगा नदी का जल कभी ख़राब नहीं होता हैं | गंगा जल को बोतल में कई वर्षों तक रखने से इसमें कीटाणु नहीं पनपते हैं | इस जल का उपयोग हिन्दू धर्म में पूजा – पाठ में किया जाता हैं |

निष्कर्ष:

गंगा नदी यह हमारे भारत देश का अत्यंत पवित्र स्थान हैं | हमारे देश में गंगा नदी को गंगा मैया के नाम से जाना जाता हैं | यह नदी पवित्र पावनी नदी हैं | सभी लोगों को इस गंगा नदी को पवित्र और स्वच्छ रखना चाहिए |

Updated: May 13, 2019 — 7:47 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *