हमारा राष्ट्रीय पक्षी मोर पर निबंध – पढ़े यहाँ Rashtriya Pakshi Mor Essay In Hindi

प्रस्तावना:

मोर यह सभी पक्षियों में से बहुत सुंदर, आकर्षक और शान वाला पक्षी हैं | मोर को सभी पक्षियों का ‘राजा’ कहा जाता हैं | मोर हमारे भारत देश के सभी क्षेत्रों में पाया जाता हैं | मोर हमारे भारत देश के साथ – साथ अन्य देश और विदेशों में भी पाया जाता हैं |

यह पक्षी बहुत ही शांत और शर्मीला होता हैं | मोर दिखने में बहुत आकर्षक लगता हैं | इसे देखर सभी बच्चे बहुत खुश हो जाते हैं |

पक्षियों का राजा

मोर को सभी पक्षियों का राजा माना जाता है | मोर पक्षी यह सभी पक्षियों का राजा होने के कारण इस सृष्टि के रचयिताओं ने इसके सर पर मुकुट की तरह एक कलगी लगाई हैं | धार्मिक धर्मों में भी मोर को सबसे पवित्र माना जाता हैं |

मोर की शरीर रचना

मोर इस पक्षी का आकार सभी पक्षियों में से बड़ा होता हैं | मोर के पंख बहुत बड़े होते हैं | उसकी वजह से यह काफी लम्बा दिखता हैं | मोर के सर पर एक चमकीली रंगबिरंगी कलगी होती हैं | मोर की चोंच थोडीसी लम्बी और नुकीली होती हैं |

मोर का गला और मुंह बैगनी रंग का होता हैं | मोर के पंख पर इंद्रधनुषी रंग बिखरे हुए हैं | इसके पंखो में चाँद जैसे स्पॉट हैं | मोर के पंख बहुत कोमल होते हैं | इसका जीवन काल १५ से २५ वर्ष तक का होता हैं |

मोर का भोजन

मोर यह सर्वाहारी पक्षी हैं | यह मुख्य रूप से चना, गेहूं, बाजरा और मकई खाता हैं | इसके आलावा भी फल और सब्जियां भी खाता हैं | जैसे की बैगन, अमरुद, अनार, टमाटर, प्याज यह सभी चीजे खाता हैं |

मोर किसानों का मित्र होता हैं | यह खेतो में से कीड़े – मकोड़े, छिपकली और साँपों को भी खाता हैं |

मोर की प्रजाति

मोर की अन्य देशों में भिन्न – भिन्न प्रजाति पाई जाती हैं | लेकिन मोर की सबसे सुंदर प्रजाति हमारे भारत देश में पाई जाती हैं |

मोर का नृत्य

मोर वर्षा ऋतु में अपने पंख फैलाकर नृत्य करते हैं | मोर बारिश के मौसम में बादलों को देखकर झूम उठता हैं | इसे नृत्य करना बहुत पसंद लगता हैं | इसका नृत्य देखकर सभी लोग मन मोहित हो जाते हैं |

धार्मिक महत्व 

हमारे हिन्दू धर्म में मोर को सबसे पवित्र माना हैं | भगवन श्रीकृष्ण ने अपने मुकुट पर मोरपंख परिधान किया हैं |

इस मोर पंख के पंख भी बनाए जाते हैं | और यह कार्तिकेय का वाहन हैं और माँ सरस्वती का सबसे प्रिय पक्षी हैं |

राष्ट्रीय पक्षी

मोर के सुंदरता की वजह से हमारी भारत सरकारने २६ जनवरी, १९६३ को हमारे भारत देश का राष्ट्रीय पक्षी के रूप में घोषित किया | मोर यह पक्षी हमारे भारत देश का राष्ट्रीय पक्षी होने के साथ – साथ म्यानमार और श्रीलंका का भी राष्ट्रीय पक्षी हैं |

निष्कर्ष:

मोर यह हमारे भारत देश की शान हैं | मोर यह समृद्धि और ख़ुशी का प्रतीक हैं | हम सभी लोगों को मोर का शिकार नहीं करना चाहिए बल्कि उनकी रक्षा करनीं चाहिए | मोर कभी मनुष्य को हानी नहीं पहुंचाते हैं बल्कि वो मनुष्य के अच्छे मित्र होते हैं |

Updated: May 23, 2019 — 5:10 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *