बलात्कार पर निबंध हिंदी में – पढ़े यहाँ Rape Essay In Hindi

प्रस्तावना :

भगवान ने स्त्री और पुरुष की शारीरिक रचना भिन्न भिन्न बनाई है | इन दोनों को इसलिए अलग अलग बनाया है की, यह दोनों संसार में आगे बढ़ सके | लेकिन बलात्कार जैसी समस्या को स्त्री को मजबूर होना पड़ता है | बलात्कार की कई खबरे टीवी पर सुनने के लिए मिलती है |

ऐसी घटना कई ना कही जगह पर होती है | स्त्री यह प्राचीन और आज के समय में भी स्वतंत्र नही है | स्त्री कही जगह पर ऐसे अकेले नही जा सकती है | मनुष्य का यह कृत्य बहुत क्रूरता की तरह होता है |

छोटी छोटी बच्चियों और महिलाओं पर गैंगरेप के द्वारा बलात्कार किया जाता है | लड़की का कोई मज़बूरी का फायदा उठाकर उसपे बलात्कार किया जाता है |

अशिक्षित लोग

बलात्कार करने वाले लोग अशिक्षित और असंस्कृत होते है | वो बलात्कार जैसे गुन्हेगारी प्रवृत्ती का कार्य करता है | जिस महिलाओं और लड़की के ऊपर बलात्कार होता है वो गरीब घर की या मध्यम वर्ग की होती है |

पुरुष लोगो को स्त्री की रक्षा करनी चाहिए | लेकिन अशिक्षित या असंस्कृत लोग रक्षा करने के जगह पर उनका शोषण करते है |

बलात्कार होने के कारण

पुरुषों के बढ़ते तनाव यह भी एक बलात्कार का कारण बन सकता है | नशा एक बहुत विकृत सोच होती है | नशे में इन्सान कुछ भी कर सकता है | जब इन्सान नशे में होता है तो उसे खुद पता नही चलता है की वो उस हालत में क्या करता है |

नशा उसको गलत दिशा की तरह लेकर जाती है | मनुष्य को उस वकत स्त्री एक शिकार के रूप में नजर आती है | ऐसे बहुत सारी बलात्कार की केसेस सामने आ गयी है |

स्त्री की कमजोरी

हर एक स्त्री को अपने बचाव और सुरक्षा के लिए हर तरह की कोशिश करनी होगी | स्त्री को शारीरिक रूप से सशक्त बनना चाहिए | मन से भी उसे मजबूत रहना चाहिए |

अकेली स्त्री जब डरकर रहती है तो उसे ऐसे समस्याओं का सामना करना पड़ता है | हर एक स्त्री के अन्दर आत्मविश्वास होना चाहिए |

उसे हर मुसीबत का सामना हिम्मत से करना होगा | जब हर एक स्त्री हिम्मत से कार्य करेगी तो कोई भी पुरुष स्त्री के आत्मविश्वास को टक्कर नही दे सकता है |

निष्कर्ष:

हर एक स्त्री को सभी समस्याओं को हिम्मत से लढना पड़ेगा | स्त्री को पुरुष के बराबरी से टक्कर लेना पड़ेगा |

Updated: February 27, 2019 — 6:19 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *