राजस्थान पर निबंध – पढ़े यहाँ Rajasthan Essay In Hindi

प्रस्तावना:

राजस्थान यह उत्तर भाग में का एक राज्य हैं | राजस्थान यह अपनी प्राचीन इतिहास और ऐतिहासिक किला की भूमि के लिए बहुत प्रसिद्ध हैं | राजस्थान यह एक सबसे बड़ा राज्य हैं |

राजस्थान यह राज्य सबसे पहले राजपुताना के नाम से जाना जाता था | इस राज्य राजाओं की भूमि होने के कारण इस राज्य को राजपुताना का नाम दिया गया था | देश के आज़ादी के बाद यह राज्य राजस्थान के नाम से जाना लगा |

राजस्थान राज्य की स्थापना

इसकी स्थापना 1 नवम्बर, १९५६ को हुई थी | इस राज्य की राजधानी जयपुर हैं | राजस्थान की राज्यभाषा हिंदी और राजस्थानी हैं | यहाँ का राष्ट्रीय पशु चिंकारा हैं |

राजस्थान पर्यटन स्थल

भारत देश के पर्यटन स्थलों में से एक स्थल है | यहाँ पर देश और विदेशी लोग आते हैं | राजस्थान यह ऐतिहासिक किलों, महलों की कला और संस्कृति के कारण पर्यटकों को आकर्षित कर देता हैं |

भारत देश में आने वाले पर्यटक तीसरे टप्पे में राजस्थान की यात्रा का सफ़र जरुर करते हैं | जोधपुर जैसलमेर, बिकानेर, जयपुर के महल और उदयपुर की झीले यह पर्त्कों के पसंदीदा स्थल हैं | राजस्थान यह राज्य अपने पहाड़ी और महलों के लिए जाना जाता हैं |

राजस्थान में खेती

राजस्थान में उष्ण रेगिस्तान और कम बारिश होने के कारण खेती बहुत कम की जाती हैं | यहाँ पर ज्वर , मका, हरभरा, गेहू इत्यादि, की प्रमुख खेती की जाती हैं |

गन्ना और तेल का भी उत्पादन किया जाता हैं | राजस्थान इस राज्य से बनास, लूनी और घग्गर और चंबल यह नदियाँ बहती हैं |

राजस्थान की संस्कृति

यहाँ की संकृति अपनी विशिष्ट पहचान रखती हैं | इस राज्य में मेहमान लोगों का मान सम्मान दिल खोलकर किया जाता हैं | राजस्थान में तीज त्यौहार के अलावा होली, दिपावली, शीतलाष्टमी इत्यादि, के अलावा भी अन्य प्रकार के स्थानिक त्यौहार भी मनाये जाते हैं | यहाँ पे करनी माता, जीण माता, सील माता, अम्बा माता और चौथ माता इत्यादि, देवियों का स्थान हैं |

विविधता

राजस्थान यह निर्जल डुंगरों, और रेतीले धोरों का प्रदेश हैं | यहाँ पर खनिज संपत्ती मिलती हैं | राजस्थान में संगमरमर और अन्य इमारती पत्थरों की खान हैं | राजस्थान में तांबा, अभ्रक, जस्ता, धातूओं के साथ साथ चुना सिमेंट का पत्थर भी मिलता हैं |

यहाँ पर अन्य कलां भी विकसित हैं | जैसे की स्थापत्य कलां, मूर्ति कलां, रंगाई छपाई और कशीदाकारी इत्यादि, विविध कलांओं के साथ – साथ संगीत नृत्य, लोकगीत इत्यादि. कलां विकसित हैं | इन विविध कलांओं के कारण राजस्थान की संस्कृति और विविधता रंगीली लगती हैं |

निष्कर्ष:

राजस्थान में शौर्य गाथा, धार्मिक त्यौहार, संस्कृति और ऐतिहासिक परंपरा के कारण समृद्ध हैं | यहाँ शिल्प कलां, चित्रकला के साथ – साथ अन्य विशेषताओं से सभी लोगों में रंगीलापन दिखाई देता हैं |

Updated: April 6, 2019 — 11:45 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *