वर्षा ऋतू पर निबंध हिंदी में -पढ़े यहाँ Rainy Season Essay In Hindi

प्रस्तावन :

हमारे  भारत  देश के हिन्दू पंचांग में  कुल ६  मौसम है जिसमे शरद ऋतू/शीत ऋतू   ,शिशिर ऋतू ग्रीष्म ऋतू ,वसंत ऋतू,  हेमंत ऋतू  तथा वर्षा ऋतू है वर्षा ऋतू यहाँ एक बहुत ही प्यारा मौसम है जो की ग्रीष्म ऋतू के लम्बे समय के बाद आता है अख्सर भारत में वर्षा ऋतू (जून महा से आरंभ होता है और सितम्बर माह तक रहता है.)

वर्षा ऋतू की घटनाएँ

वर्षा ऋतू में कुछ घटने वाली घटने वाली घटना जैसे की मुझे लगता है की वर्षा ऋतू सभी को पसंद आनेवाला एक ऐसा मोनसून है। चुकी काफी लम्बे समय के बाद ये मौसम आता है

 जिससे भारत में रहने वाले किसान भगवान इंद्रा देव से प्रार्थना करते है जिससे और वर्षा हो ताकी उनके मौसमी फसल कि पैदावार अछि हो| वर्षा के भगवान् (इंद्रा देव ) बहुत ही महत्वपूर्ण भगवन है किसानो के लिए।

वर्षा ऋतू हमें, पृथ्वी ,पौधे ,पेड़ ,घास पशु ,और पक्षीयो को  एक नया जीवनदान  देता है हर जीवित प्राणी वर्षा की पहली बून्द से प्रभावित होता है जब वर्षा की पहली भून प्यासी ,सूखे धरती पर गिरती है

वर्षा ऋतू के कुप्रभाव

वर्षा ऋतू में जोरो से हवा बहाने के कारण कभी कभी कई लोगो के घर के पत्रे उड जाते है ,नंगे बिजली के तार कभी कभी हवा के झोको से टूट कर गिर जाते है

जिसके कारण, कई घातक घटनाएँ हो जाती है तथा जिन लोगो के घर निचले स्तरों में है वह पर तो अक्सर जल भराव की समस्या उत्पन्न हो जाती है जैसे की, डेंगू ,डायरिया ,खाज कुजली इत्यादि पहाड़ी इलाके में रहने वले लोगो को कभी प्राकर्तिक आपदाओ का शिकार होना पड़ता है जैसे की :भूस्खलन ,भूकंप जल भराव इत्यादि जब बारिश अपने निर्धारित सीमा से अधिक होती है

 तब इन सब आपदाओं की शुरुआत होती है कभी कभी तो कई दिनों तक ल;अगतर वर्षा होने पर कपडे भी नहीं सुखते |

अख्सर हमने देखा होगा की, पहाड़ी छेत्रो में वास करने वाले लोग कभी- कभी  भूस्खलन का शिकार हो जाते है कारण की भूस्खलन  से  कई लोगो के घर टूट जाते है    

मनोरंजन

मै और मेरा मित्र  हमेशा  की तरह अपने घर के छत  पे जाता  है  जिससे की  वर्षा में भीग कर वर्षा ऋतू का पूरा आनंद मिल सके।

 और वह गाते है और नाचते है। कभी कभी तो जब हमारी स्कूल की बस बारिश में सड़को की ट्राफिक में फस जाती है|

 तब मै और मेरे अध्यापक भी मेरे साथ वर्षा का आनंद लेते है हमरे अध्यापक हमें वर्ष ऋतू के उप्पर कहानिया तथा कविता पढ़ाति है।

निष्कर्ष: 

हमारे भारत देश में वर्षा ऋतू हमेशा से ही जून अर्थात (आषाढ़ और श्रवण ) के महीने में आता है जब भारत में दक्षिण –पश्चिम मोंसूनी हवाएं बहती है जब वर्ष की पहल मानो हो ही जाती है

 इस महीने लोग अपने सरे गम भुलाकर बड़ी ख़ुशी से बारिश के पानी का आनंद उठाते है ! साधारण भाषा में कहे तो भारत में बारिश सर्वप्रथम केरल के तात से आरम्भ होती है जिससे पुरे भारत में जून (आषाढ़ ) महीने के पहले हप्ते में ही होता है  

Updated: February 21, 2019 — 12:45 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *