कुतुब मीनार पर निबंध हिंदी में – पढ़े यहाँ Qutub Minar Essay In Hindi

प्रस्तावना :

क़ुतुब मीनार यह एक अनेक भारतीय स्मारकों में से एक स्मारक है | क़ुतुब मीनार भारत देश में दिल्ली में स्थित है | यह एक सबसे ऊँची मीनार है  | इस क़ुतुब मीनार पर्यटन स्थल के रूप में भी देखा जाता है | हजारो लोग इसे देखने के लिए आते है |

क़ुतुब मीनार की रचना

यह स्मारक लाल पत्थरों और ईटो से बना हुआ है | क़ुतुब मीनार के लगाये हुए पत्थरों पर कुरान और आयते तथा मुहम्मद गौरी और कुतुबुद्दीन इनकी याद में यह ऐतिहासिक स्मारक की रचना की गयी है |

इस मीनार को 12 वी सदी में कुतुबदीन ऐबक द्वारा बनाया गया है | इस मीनार ऊंचाई कम से कम ७२ मी से भी अधिक हैं | क़ुतुब मीनार को भारत देश में दूसरा स्थान प्राप्त हुआ है | मीनार के आसपास के परिसर में प्राचीन और मध्य युगीन रचना दिखाई देती है |

क़ुतुब मीनार का निर्माण

क़ुतुब मीनार की निर्माण मुस्लिम शाषक कुतुबु उद्दीन ऐबक ने सन १२०० ई. में की थी | लेकिन इस मीनार को उसके उत्तराधिकारी इल्तुतमिश के द्वारा पूरा किया गया था |

सन १३६८ में फिराज शाह तुगलक के द्वारा इस मीनार की पांचवी और आखिरी मंजिल बनवाई गयी थी | इस क़ुतुब मीनार यूनेस्को के साथ जोड़ा गया है |

क़ुतुब मीनार की विविधता

क़ुतुब मीनार को सबसे ऊँचे वाली मीनार भी कहा जाता है | यह लाल पत्थरों से और ईटो से बनी हुई है | यह मीनार शंक के आकार में बनाई गयी है | इस मीनार के अन्दर ३७९ सीढिया और पांच मंजिला का हे |

इस मीनार के सबसे ऊपर वाली मंजिल से एक सुन्दर दृश्य दिखाई देता है | क़ुतुब मीनार की पहिली तीन मंजिले लाल बलुआ पत्थरों से और चौथी और पांचवी मंजिल संगमरमर पत्थरों से बनी हुई है |

पर्यटन स्थल

क़ुतुब मीनार को एक पर्यटन स्थल के रूप में देखा जाता है | यह एक मुगल स्थापित कला है जो पर्यटन के लिए प्रसिद्ध है | देश के सभी लोग, बच्चे हर साल इसे देखने आते है | पुरातन काल में क़ुतुब उद्दीन ऐबक यह भारत आया था और उन्होंने राजपूतों के साथ युद्ध किया था | उस युद्ध में उसकी हर हो गयी थी |

अपनी हार की वजह से उन्होंने इस इस अदभुत मीनार को बनाने का हुकुम दिया | इस क़ुतुब मीनार के अन्दर अलाई दरवाजा, इल्तुतमिश का मकबरा और दो मस्जिदे भी है जो आकर्षित करती है |

निष्कर्ष :

यह एक ऐतिहासिक स्मारक है जो देश के सभी लोग और विधेशी लोग भी इस स्मारक को देखने आते है | क़ुतुब मीनार यह स्मारक सुन्दरता बढाता है |

इस मीनार के आसपास भी इमारतों का भी निर्माण किया है जो अलाउद्दीन खिलजी ने बनवाया है | यह एक सबसे ऊँची और शानदार ईमारत है | आज भी यह स्मारक पर्यटकों को आकर्षित करता है |

Updated: March 5, 2019 — 11:46 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *