पंडित जवाहरलाल नेहरु पर निबंध हिंदी में – पढ़े यहाँ Pandit Jawahar Lal Nehru Essay In Hindi

प्रस्तावना :

पंडित जवाहरलाल नेहरु इनका जन्म १४ नवम्बर, १८८९ में ( इलाहाबाद ) इस शहर में हुआ | पंडित जवाहरलाल नेहरु इनके पिताजी का नाम मोतीलाल नेहरु और माता का नाम स्वरूपरानी था | उनके पिता एक प्रसिध्द वकील थे | १९४७ में भारत देश को जब आज़ादी मिली तब वो भारत देश के पहिले प्रधान मंत्री बने | उन्हें आधुनिक भारत का निर्माता कहते है | पंडित जवाहरलाल नेहरु एक ऐसे व्यक्ति थे जिनके पास ईमानदारी , मेहनत, समझदारी ,देशभक्ति और बौधिक शक्तिया भी थी | पंडित जवाहरलाल नेहरु एक महान व्यक्ति , नेता, राजनीती तज्ञ, लेखक और एक वक्ता भी थे |

शिक्षण

पंडित जवाहरलाल नेहरुजी ने अपनी शिक्षा की शुरुवात घर से कर ली और उच्च शिक्षण लेने के लिए वो इंग्लैंड को गए | पंडित नेहरुजी १९१२ में भारत देश में लौट आये | भारत में लौट आने के बाद उन्होंने अपने पिता की तरह वकील बन गए और महात्मा गांधीजी के साथ भारतीय स्वतंत्रता चुनाव में शामिल हो गए थे | स्कूलों और विश्वविद्यालयों में उनको शिक्षा प्राप्त करने का मौका मिला था | उन्होंने अपनी वकील की डिग्री कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय से पूरी की |

बालदिन

पंडित जवाहरलाल नेहरु को बच्चे बहुत पसंद थे | नेहरुजी को बच्चों से बहुत प्यार था | उनका जन्म जिस दिन हुआ उस दिन को ( बालदिवस ) के रूप में मनाया जाता है | उनको बच्चों से प्यार और लगाव को प्रदर्शित करने के साथ बच्चों के जीवन और सुरक्षा के लिए उनके जन्म दिन स्वत्के अवसर पर भारतीय सरकार द्वारा बाल स्वच्छता स्वच्याता अभियान रखा जाता है | उनका जन्म दिवस बेहद उत्साह से और खास तो बच्चों की तरफ से मनाया जाता है | बच्चे उनको नेहरु चाचा भी कहते थे |

स्वतंत्रता की प्राप्ति

पहिले भारत देश पर अंग्रेजों का राज्य था वो भारत के लोगों के साथ बुरे तरीके से व्यवहार कर रहे थे इसलिए उन्होंने स्वतंत्रता आन्दोलन में जाने का फैसला कर लिया और भारत के लिए अंग्रेजों से लढने का संकल्प किया | उनके मन में देश भक्ति की भावना जागृत थी और उनका दिल आराम से बैठने के लिए तैयार नही था |

वो हमेशा आज़ादी के आन्दोलन में गांधीजी के साथ रहे | उनको बहत बार जेल जाना पड़ा लेकिन उन्होंने कभी हर नही मानी | अंग्रेजो के हर सजा के बावजूद भी उन्होंने अपनी लड़ाई शुरू रखी | आखिर भारत को १५ अगस्त १९४७ को स्वतंत्रता प्राप्त हो गयी | इस दिन भारत देश पूरा गुलामगिरी से मुक्त हो गया | भारत देश के लोगो ने देश को सही दिशा में आगे बढाने के लिए पंडित जवाहरलाल नेहरु इनको देश के पहले प्रधान मंत्री के रूप में चुना | भारत के प्रधान मंत्री होने के बाद उन्होंने देश में बहुत सारे बदलाव कर दिए | उनके इस नेतृत्व की वजह से देश प्रगति के रास्ते पर आगे बढ़ रहा है |भारत के पहिले प्रधान मंत्री और बच्चों के नेहरू ( चाचा ) इस भारत देश की सेवा करते हुए २७ मई १९६४ को निधन हो गया |

आज भी भारत के लोग नेहरूजी के गुणों को बहुत याद करते है | उन्हें भारत के लोगो से बहुत प्यार था |

Updated: February 23, 2019 — 1:06 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *