ओलम्पिक खेलों पर निबंध हिंदी में – पढ़े यहाँ Olympic Sports Essay In Hindi

प्रस्तावना :

इस भारत देश में बहुत अलग अलग खेल खेले जाते है | कई खेलों का आयोजन किया जाता है | अन्य खेल में से यह एक खेल के रूप में खेला जाता है | ओलम्पिक खेल इस विश्व का सबसे बड़ा आंतर्राष्ट्रीय खेल यह एक प्रतिस्पर्धा का आयोजन है |

ओलम्पिया खेल   

ओलम्पिक खेल में बहुत सारे खिलाडी सहभाग लेते है | इन खेल के अन्दर बहुत सारे खेल भी खेले जाते है | ओलम्पिक खेल में अनेक प्रतिस्पर्धा होती है | जो देश अन्य प्रकार के खेलो में प्रथम स्थान प्राप्त कर लेता है उसको ‘ओलम्पिक विजेता’ माना जाता है |

प्रथम ओलम्पिक खेल का आयोजन

सबसे पहिले ओलम्पिक खेल का आयोजन ७७६ ई.स पूर्व में युनान (ग्रीक) के ओलम्पिया के नगर में हुआ था | ओलम्पिया इसी जगह के नाम से इस खेल का नाम ओलम्पिक खेल रखा गया | हर ४ साल के बाद ओलम्पिक खेलों का आयोजन किया जाता है |

इस खेल में बहुत सारे लोग भाग लेते है | इस खेल में खेल के व्यतिरिक्त साहित्य, कला, नाटक और संगीत इ. स्पर्धा भी आयोजित की जाती है | सम्राट थियोड़ोसिस के द्वारा इ.स ३९४ में ओलम्पिक खेल पर प्रतिबंध लगाया गया |

इस खेल को खेलने पर मनाई करने के बाद भूकंप के कारण इस शहर का अस्तित्व ख़तम हो गया और ओलम्पिक खेलों का आयोजन भी बंद हो गया |

ओलम्पिक खेल शुरुवात

इस खेल की प्रथम शुरुवात श्रेय फ़्रांस के विद्वान् खेल प्रेमी पियरे डी कुबर्तिन ने किया है | सन १८९४ में बहुत प्रयास करने के बाद उन्होंने ‘आंतर्राष्ट्रीय ओलम्पिक समिति’ की स्थापना की और उसके वो पहिले अध्यक्ष बने |

उसके बाद ४ अप्रैल, १८९६ को यूनान की राजधानी ‘एथेंस’ में ओलम्पिक खेलों का प्रथम आयोजन किया गया | तब से विश्व के अलग अलग स्थानों पर इस खेल खेला जाता है |

ओलम्पिक खेल का ब्रीदवाक्य

इस खेल का ब्रीदवाक्य है – ‘’अल्टीयस, सिटियस, फोर्टियस’’ | यह वाकय लैटिन भाषा में लिखा हुआ है | इसका हिंदी में अर्थ होता है – और तेज, और ऊँचा और और शक्तिशाली | खेल प्रेमी पियरे डी कुबर्तिन इन्होने सन १९१४ में ओलम्पिक ध्वज को बनाया है |

यह ध्वज सफ़ेद कपडे में बनाया गया है | इस ध्वाजा पर काले, नीले, पीले, हरे और लाल यह पंच छल्ले के रूप में ओलम्पिक चिन्ह का मुद्रण किया हुआ है |

निष्कर्ष :

ओलम्पिक खेल यह एक प्रिय खेल के रूप में माना गया है | यह खेल बहुत सारे लोग खुशी से खेलते है |

Updated: March 5, 2019 — 7:50 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *