ओलंपिक पर निबंध – पढ़े यहाँ Olympic Essay In Hindi

प्रस्तावना:

देश में अन्य प्रकार के खेल खेले जाते हैं | हमारे देशों में कई खेलों का आयोजन किया जाता हैं | लेकिन ओलंपिक यह एक ऐसा खेल हैं जो, जिसका आयोजन पुरे विश्व में किया जाता हैं | यह विश्व में सबसे बड़ा आंतरराष्ट्रीय खेल हैं |

ओलंपिक खेल का आयोजन

इस खेल का सबसे पहले आयोजन ७७६ ई.पूर्व यूनान (ग्रीक) के ओलंपिया शहर में हुआ था | यह खेल ओलंपिया शहर के पर्वत पर खेला जाता था | इसलिए इसका नाम ओलंपिक रखा गया | ओलंपिक यह खेल ४ साल बाद खेला जाता हैं | इस खेल को बहुत सारे लोग पसंद करते थे | इस खेल में कुश्ती, मुक्केबाजी, दौड़ इ खेल प्रतियोगिता रूप में खेले जाते हैं |

ओलंपिक खेल का प्रारंभ

इस खेल के सर्वप्रथम अध्यक्ष ‘पियरे डी कुबर्तिन’ इन्होंने अपने प्रयासों से इस ओलंपिक खेलों का प्रारंभ किया था | यह एक बहुत ही अच्छे खेलप्रेमी थे | यह खेल निश्चित किये गए देश में खेला जाता था |

इस खेल बहुत सारे खिलाड़ी भाग लेते थे | लेकिन १९ वी सदी में कुछ समय ऐसा भी आया और ओलंपिक खेलों को स्थगित कर दिया | सन १९४० से १९४४ में विश्व युद्ध के कारण खेल स्थगित कर दिए | इसकी वजह से खिलाडियों को निराशा का सामना करना पड़ा |

ओलंपिक का आदर्श वाक्य-

इस खेल का मुख्य कार्य है, सिटियस, अल्टियस, फोर्टियस | इस वाक्य का लैटिन भाषा में अर्थ होता हैं, और तेज, और ऊँचा, और बलशाली | सन १९१४ में ‘पियरे डी कुबर्तिन’ इन्होंने ओलंपिक ध्वज बनाया |

ओलंपिक ध्वज

ओलंपिक ध्वज यह सिल्क के सफ़ेद कपडे का बना हैं | इस ध्वज पर आपस में जुड़े नीले, पीले, काले, हरे और लाल रंग के पांच छल्लों के रूप में ओलंपिक चिन्ह हैं |

ध्वज पर के पांच छल्ले – अफ्रिका, अमेरिका, एशिया, यूरोप और ऑस्ट्रेलिया को दर्शाते हैं | ओलंपिक खेलों में ‘ओलंपिक गान’ भी किया जाता हैं |

नियमों का पालन

ओलंपिक खेल की शुरुआत करने से पहले यूनान के ओलंपिक गाँव में जियस देवता के मंदिर में सूर्य की किरणों से ओलंपिक मशाल प्रज्वलित की जाती हैं |

उसके बाद इसी मशाल से आयोजित स्थल पर स्टेडियम मशाल को प्रज्वलित करके खेल का प्रारंभ किया जाता हैं | उस खेल में भाग लेने वाले खिलाडियों में से किसी प्रतिष्ठित्ब खिलाडी इस खेल के नियम और सच्ची भावना से खेलने की शपथ लेता हैं |

जो खिलाडी ओलंपिक खेलों में सर्वप्रथम आता हैं उसे स्वर्ण पदक, रजत और कांस्य पदक से सन्मानित किया जाता हैं | हमारे भारत देश ने भी इस खेल में तीन बार स्वर्ण पदक जीता हैं |

निष्कर्ष:

यह एक बहुत अच्छा आंतरराष्ट्रीय खेल हैं | हमारे देश के खिलाडी इस परपरा को ओर आगे बढ़ाएंगे |

Updated: May 14, 2019 — 11:36 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *