राष्ट्रभाषा हिंदी पर निबंध – पढ़े यहाँ National Language Hindi Essay In Hindi

प्रस्तावना:

हमारा भारत देश यह विविध जाती धर्मों का देश हैं | इस देश में अलग – अलग प्रकार की भाषाएँ बोली जाती हैं | हर एक देश की अपनी-अपनी राष्ट्र भाषा होती हैं | यदि यह राष्ट्रभाषा नही होगी तो देश में एकता की कोई कल्पना नही कर सकता हैं |

इसलिए हमारे देश के संविधान में हिंदी भाषा को राष्ट्रभाषा घोषित किया हैं | हमारे भारत देश में सबसे ज्यादा हिंदी यह भाषा बोली जाती हैं | इस देश की हिंदी राष्ट्रभाषा होने के कारण भी उसे उच्च दर्जा नही मिल पाया हैं |

राष्ट्रभाषा का अर्थ –

राष्ट्रभाषा का अर्थ होता है – देश की मुख्य भाषा अर्थात ऐसी भाषा होती हैं, जिस भाषा का उपयोग हर एक मनुष्य आसानी से कर सके, बोल सके और लिख सके |

हमारा देश आजाद होने से पहले अंग्रेज सरकार ने सारा काम चलाया लेकिन देश के लिए एक भाषा का होना बहुत जरुरी था | इसलिए हिंदी इस भाषा को देश की राष्ट्रभाषा में चुना गया |

हिंदी भाषा को प्राधान्य

हमारे भारत देश एक बहुभाषी राष्ट्र हैं और उसकी एक राष्ट्रभाषा हैं – हिंदी | लेकिन हिंदी भाषा को १४ सितम्बर, १९४९ को इसे हिंदी भाषा का दर्जा प्राप्त हुआ |

हमारे देश का संविधान २६ जनवरी, १९५० को लागु हुआ | इसी दिन से हिंदी भाषा पूर्ण रूप से राष्ट्र की भाषा के रूप में घोषित किया गया |

हिंदी भाषा की विशेषता

हिंदी भाषा को संस्कृत की सबसे बड़ी बेटी कहाँ जाता हैं | हिंदी भाषा बोलने, पढ़ने और लिखने में सबसे सिधी और सरल हैं | इस देश का कोई भी व्यक्ति इस भाषा को कुछ समय में ही लिखना और बोलना भी सीख सकता हैं |

इस भाषा की दूसरी विशेषता हैं की, यह भाषा लिपि के अनुसार चलती हैं | हम इस भाषा में जैसे लिखते हैं, वैसे ही बोला जाता हैं | इस हिंदी भाषा की सबसे मुख्य विशेषता यह हैं की, संसार के लगभग सभी शब्द इस भाषा में घुलमिल जाते हैं |

हिंदी भाषा का महत्व

हिंदी भाषा हर एक स्कूल में, कॉलेज और महाविद्यालयों में पढाई जाती हैं | इस हिंदी भाषा का साहित्य भी सबसे विशाल हैं | इस हिंदी भाषा ने देश में एकता लाने में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाई हैं |

पूरब से पश्चिम और उत्तर से दक्षिण तक भारत के विद्वानों ने देश के एकता और सातत्यता के लिए इस हिंदी भाषा का समर्थन किया हैं | इस भाषा का देश में बहुत महत्त्व हैं |

निष्कर्ष:

हिंदी यह हमारी राष्ट्रभाषा होने के साथ-साथ संपर्क भाषा भी हैं | इस भाषा को सभी लोगों को राष्ट्रभाषा का सम्मान देना चाहिए | हिंदी भाषा देश के एकता के सूत्र में बांधने वाली भाषा हैं |

हम सभी लोगों का यह कर्तव्य हैं की, भारत की भाषाओँ के विकास पर बाल देना चाहिए और हिंदी भाषा का विकास करके उसे सभी भाषाओँ के साथ जोड़ने का प्रयास करना चाहिए | इसलिए हिंदी भाषा को राष्ट्रभाषा के रूप में चुना गया हैं |

Updated: April 1, 2019 — 10:38 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *