मैना पर निबंध – पढ़े यहाँ Myna Essay In Hindi

प्रस्तावना:

मैना यह बहुत ही सुंदर पक्षी हैं | इसकी आवाज बहुत मधुर होती हैं | यह चिड़िया के रूप में दिखती हैं | यह पक्षी देश के हर एक भाग में पायी जाती हैं | मैना यह पक्षी ज्यादा तो गाँव के मैदानों और जलाशयों के पास पायी जाती हैं |

मैना पक्षी की शरीर रचना

मैना भूरे रंग की होती हैं | इसके गर्दन काले रंग की होती हैं | मैना इस पक्षी की चोंच नारंगी रंग की होती हैं और आँखों के चारों तरफ का भाग लाल होता हैं |

मैना यह पुरे भारत देश में पायी जाती हैं | एशिया में भी पायी जाती हैं | मैना दिखने में बहुत अच्छी लगती हैं लेकिन इसके पाँव बहुत ताकदवान होते हैं |

मैना की प्रजाति

मैना पक्षी की कई प्रजाति पायी जाती हैं | जैसे की गुलाबी मैना, पहाड़ी मैना, पवई मैना और भारतीय मैना इत्यादि, अलग-अलग प्रजातिया पायी जाती हैं |

गुलाबी मैना 

यह सुंदर चिड़िया होती हैं | इसका शरीर गुलाबी रंग का होता हैं |

पहाड़ी मैना 

पहाड़ी मैना ज्यादा तो पहाड़ी और जगली क्षेत्र में पायी जाती हैं | इस पहाड़ी मैना को पालतू पक्षी के रूप में पाला जाता हैं | इस मैना की आवाज सबसे मधुर होता हैं | यह पक्षी मेघालय और छत्तीसगढ़ राज्य का राष्ट्रीय पक्षी हैं |

पवई मैना 

इस मैना को ‘ब्राह्मणी मैना’ भी कहा जाता हैं | पवई मैना भारत देश के दक्षिण एशिया में पायी जाती हैं | इस मैना का आवाज शिटी की तरह होता हैं | यह पवई मैना बहुत शोर मचाती हैं | यह मीठी बोली बोलने वाला पक्षी हैं |

मैना का भोजन

मैना पक्षी कीड़े मकोड़े, फल और दाने यह सब खाती हैं | यह सर्वहारी होती हैं |यह ज्यादातर जहां लोग रहते हैं, वहा पर देखने के लिए मिलती हैं | मैना पक्षी दूसरों के घोसलें में जाकर अंडे देती हैं और जुलाई के समय में ही अंडे देती हैं |

इनके अंडे का रंग नीला होता हैं | कम से कम एक समय पे मैना ४ से ५ अंडे देती हैं | यह पक्षी पेड़ों और दिवारों में छेदों में घोसलें बनाकर रहती हैं |

निष्कर्ष:

मैना यह दिखने में छोटा और सुंदर पक्षी हैं | मैना अलग अलग प्रकार आवाज भी निकालती हैं | मैना दिन में कई बार सोती हैं |

Updated: April 3, 2019 — 1:07 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *