मेक इन इंडिया पर निबंध – पढ़े यहाँ Make In India Essay In Hindi

प्रस्तावना :

मेक इन इंडिया यह एक अभियान है जो की भारत के प्रधान मंत्री माननीय नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में आरंभ किया गया है | जो की भारत में औद्योगिक क्षेत्र को बढ़ावा देने का मूल कारण था | जिससे देश में रोजगार की समस्या को कम किया जा सकें |

भारत देश में मेक इन इंडिया का प्रारंभ 

.भारत देश के प्रधान मंत्री माननीय नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में मेक इन इंडिया इस अभियान का प्रारंभ २५- सितम्बर २०१४ को नई दिल्ली के विधान भवन में हुआ था |

और इस अभियान के प्रति लोगों में जागरूकता लाने हेतु लोगो के समक्ष औद्योगिक नीति तथा विकासित क्षेत्र द्वारा २९-दिसंबर-२०१४ को एक दुकान का आयोजन किया गया|

जिसमे शहर के बड़े बड़े उद्योगपति, मुख्य मंत्री , कैबिनेट मंत्री तथा भारत के सम्पूर्ण राज्यों के मुख्य सचिव और लीडर लोग सम्मिलित होकर इस अभियान में सहभागी बने थे |

मेक इन इंडिया का मुख्य उद्देश्य 

मेक इन इंडिया इस स्कीम का मुख्य उद्देश्य यह था की, देश की अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाना भारत में अर्थ व्यवस्था को प्रभावित करने वाले एसे २५ स्थानों पर परिवर्तन लाना |

इस अभियान को सुचारू रूप से लोगों को इसके प्रति जागरूकता तथा इससे अवगत कराने हेतु लोगो में रोजगार से सम्बंधित भाषण दिए, और इस अभियान के तहत लोगो तक रोजगार पहुचना तथा देश में से बेरोजगारी की समस्या को समाप्त करना होता है |

मेक इन इंडिया से होने वाले लाभ 

मेक इन इंडिया योजना के तहत भारत में बहुत से बेरोजगार युवाओं को रोजगार प्राप्त हो रहा है, और इसी के कारण से देश का विकास भी हो रहा है |

और इसी के कारण से भारत के प्रधान मंत्री विदेश के दौरा कर अन्य विदेशी देशों के साथ संधि कर उन्हें अपने देश से अपनी व्यापार की शाखा भारत में स्थापित कराने के लिए आमंत्रित किये है |

जिसके साथ-साथ विदेशी कम्पनियों को भी फायदा हो रहा है | और जब लोगों को रोजगार प्राप्त होगा तब क्राइम दर में भी कमी देखने को मिली है |

मेक इन इंडिया के अभियान

मेक इन इंडिया के अभियान को भारत देश के प्रत्येक नागरिको तक पहुचाने हेतु भारत सरकार ने १३,फरवरी २०१६ महाराष्ट्र के मुंबई शहर में मेक इन इंडिया वीक इवेंट के प्रकार मनाया गया था | जिसमे २५०० अंतर्राष्ट्रीय व् ८००० राष्ट्रिय कंपनियों ने सफलता पूर्वक सहभागी हुए |

 मेक इन इंडिया से प्राप्त परिणाम 

भारत में सितम्बर,२०१४ से इस योजना की शुरुआत हुई, और इसके शुरुआत होते ही २०१४ से २०१५ तक भारत सरकार को विश्व के कई देशों से यह प्रस्ताव प्राप्त हुआ है की आप हमारे देश को इलेक्ट्रॉनिक्स प्रोडक्ट को बनाओ और बेचो|

इसी प्रकार से भारत में सन २०१५ में सैमसंग, हूआवी, सोमी रेडमी, विवो तथा अन्य कम्पनियाँ आई और मिल कर भारत में काम करने के लिए बात कहीं |

निष्कर्ष :

भारत सरकार अपने देश को विक्सित करने के लिए निरंतर प्रयास कर रही है, और हमें इसमें पूर्ण रूप से भाग लेना चाहिए | जिससे सरकार द्वारा चलाये जानेवाले योजनाओं का हमें लाभ प्राप्त हो सके|

Updated: March 7, 2019 — 8:43 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *