महाशिवरात्रि पर निबंध – पढ़े यहाँ Mahashivaratri Essay In Hindi

प्रस्तावना:

हमारा भारत देश यह त्योहारों का देश हैं | इस देश में अन्य प्रकार के त्यौहार मनाये जाते हैं | उन सभी त्योहारों में से महाशिवरात्रि यह हिन्दू धर्म का प्रमुख धार्मिक त्यौहार हैं |

यह त्यौहार हिन्दू धर्म के प्रमुख देवता महादेव इनके जन्मदिवस के रूप में मनाया जाता हैं | यह त्यौहार पुरे भरता में बहुत ख़ुशी और उत्साह के साथ मनाया जाता हैं | यह त्यौहार सबसे लोकप्रिय हैं |

महाशिवरात्रि का त्यौहार कब मनाया जाता है –

यह त्यौहार हर साल फाल्गुन माह के कृष्ण पक्ष चतुर्दशी को मनाया जाता हैं | महाशिवरात्रि का त्यौहार फरवरी या मार्च में आता हैं |  त्यौहार इस दिन बहुत सारे शिव भक्त व्रत रखते हैं | इस दिन खास करके भगवान शिवजी की पूजा और उपासना करते हैं |

भगवान शिवजी की पूजा

इस दिन शिवजी के मंदिरों में भक्तों की बहुत बड़ी लाइन लगती हैं | इस दिन हर एक शिव भक्त भगवान शिवजी के दर्शन के लिए व्याकुल रहता हैं | हर एक भक्तजन अपने साथ फल, फुल दूध, गंगाजल, धुप इत्यादि शिव जी को अर्पण करते हैं |

भगवान शिवजी को बेल के पत्र सबसे अतिप्रिय थे | इसलिए उन्हें इस दिन बेल पत्र अर्पण किये जाते हैं | महाशिवरात्रि के दिन शिव जी के लिंग को गंगाजल से नहलाया जाता हैं | उसके बाद दूध डालकर अभिषेक किया जाता हैं | उसके बाद आरती ग्रहण करते हैं |

महाशिवरात्रि का इतिहास

कुछ विद्वानों का यही मानना हैं की, इस दिन शिवजी और माता पार्वती यह दोनों विवाह के बंधन में बढे गए गए |

कई विद्वानों का मानना है की, महाशिवरात्रि के दिन भगवान शिवजी ने कालकूट नाम का विष ग्रहण किया था | जो सागरमंथन के समय अमृत के सबसे पहले समुद्र से निकला था |

शिव मंदिर की सजावट

हमारे भारत देश महाशिवरात्रि का त्यौहार रात के समय मनाया जाता हैं | इस दिन शिवजी के मंदिरों को बहुत सुंदर तरीके से सजाया जाता हैं |

मंदिरों को लाइट से सजाते हैं उसके कारण रात के समय मंदिर जगमगाते हुए नजर आता हैं | मंदिरों की रोशनाई ओर बढ़ जाती हैं |

महाशिवरात्रि के त्यौहार का महत्व

यह त्यौहार हमारे देश में बड़े श्रद्धा के साथ मनाया जाता हैं | इस त्यौहार का सबसे ज्यादा महत्व हैं | कई लोगों का मानना हैं की, इस दिन भगवान ब्रह्मा ने रूद्र से भगवान शंकर का रूप या अवतार धारण किया था |

इस दिन भगवान शिवजी ने विश्व की रक्षा के लिए कालकूट विष को पिया था | जिसकी वजह से उनका कंठ नीला हुआ था | इसलिए उनको ‘नीलकंठ’ के नाम से भी जाना जाता हैं |

महशिवरात्रि का त्यौहार

महाशिवरात्रि या त्यौहार भारत देश के साथ – साथ वाराणसी, हिमाचल प्रदेश, हरिद्वार और ऋषिकेश में भी बड़े उत्साह से मनाया जाता हैं | यह त्यौहार काफी प्रसिद्ध हैं |

निष्कर्ष:

धार्मिक ग्रंथों में ऐसा माना गया हैं की, महाशिवरात्रि के दिन भगवान शिवजी की पूजा करने पर सांसारिक मनोकामना या इच्छा पूरी हो जाती हैं | और जीवन में सुख और समृद्धि आती हैं |

Updated: May 13, 2019 — 1:02 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *